What is UPS in Hindi

हेलो दोस्तो आप सभीको स्वागत है एक नई लिख में। आपने तो यूपीएस का नाम सुना ही होगा और कोई देख भी होगा जरूर,पर क्या आपको पता है ये यूपीएस क्या है और इसका असलमे काम क्या होता है? अगर आपको नेही पता तो कोई बात नेही किउ की आज हम जानने बाले है यूपीएस क्या है और कंहापे इस्तेमाल होता है।

UPS क्या है

UPS का पूरा नाम है Uninterruptible Power Supply. इसका इस्तेमाल हम कंप्यूटर पर करते हैं ताकि अगर हमारी पावर सप्लाई कट हो जाए हमारा जो डाटा है उससे हम सेव कर सकते हैं और कंप्यूटर को शटडाउन कर सकते हैं। जैसे कि सबको पता है अगर हम कंप्यूटर को डायरेक्ट बंद करते हैं तो उसकी window क्राफ्ट हो जाती है और वह शायद दोबारा ना चले तो इसी डाटा लॉस को बचाने के लिए यूपीएस का इस्तेमाल किया जाता है।

एक निर्बाध बिजली की आपूर्ति एक उपकरण है जिसका उपयोग कंप्यूटर और उपकरण को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है, जब प्राथमिक बिजली स्रोत में नुकसान, या महत्वपूर्ण कमी होती है।इसे प्राप्त करने के लिए कई घरों में कई बैटरियां होती हैं जो कि तब खत्म हो जाती हैं जब यह उपलब्ध शक्ति में कमी या कमी का पता लगा लेती है। एक बार जब यह पता चल जाता है, तो नियंत्रण को बैटरी पर स्थानांतरित कर दिया जाता है, और एक इन्वर्टर के माध्यम से, बैटरी डीसी वोल्टेज को उपकरणों के लिए एसी में बदल दिया जाता है।

Uninterruptible power supply
UPS

वास्तव में, यह कंप्यूटर के सिस्टम और उपकरण होना जरूरी नहीं है जिन्हें यूपीएस द्वारा जीवित रखा जाता है।समय की मात्रा भिन्न हो सकती है जिसके लिए एक प्रणाली अलग-अलग हो सकती है, लेकिन यह समस्या को हल करने का अवसर प्रदान करती है, या बहुत कम से कम, सिस्टम को नियंत्रित मीटर में बंद करने की अनुमति देती है।यहां तक ​​कि सबसे सरल उतार भी कई भाग से बना है। 

बैटरी डीसी करंट का उपयोग करती है और हमारी आने वाली आपूर्ति एसी करंट है, हमें इन्वर्टर का उपयोग करके डीसी को एसी में बदलना होगा। हमें आने वाली आपूर्ति और बैटरी पावर के बीच स्विच करने का एक तरीका चाहिए। इसके लिए, हम एक ट्रांसफर स्विच नामक कुछ का उपयोग करते हैं।तो, इसे नीचे तोड़ने के लिए ये वे भाग हैं जो हमें एक बुनियादी यूपीएस प्रणाली के लिए चाहिए; बैटरी, बैटरी चार्जर, इन्वर्टर और ट्रांसफर स्विच।

यूपीएस के प्रकार

यूपीएस के सारे प्रकार की देखने को मिलती है जेसेकि:

  • Offline UPS
  • Online UPS
  • Line interactive UPS system

Offline UPS

ऑफ़लाइन यूपीएस सबसे सरल और सबसे कम खर्चीला है क्योंकि दोनों कंपोजिट आप जानते हैं कि यह बहुत ही सरल है यह सिर्फ इनपुट को देखता है अगर यह नीचे जाता है तो इसके बारे में कहा जाता है कि आप इसे जानते हैं।इसलिए अक्सर यूपीएस सबसे सस्ता सबसे सरल प्रकार है। अब यह कुछ वृद्धि की सुरक्षा प्रदान करता है लेकिन यह बहुत सीमित है क्योंकि कभी भी कोई खोज होती है।  

इसलिए मेरे कहने का मतलब यह था कि जब मैंने कहा था कि ऑफ़लाइन प्रकार के यूपीएस में इस प्रकार के अपग्रेड की संभावना बहुत सीमित है।फिर आप जानते हैं कि आपके पास दो सर्किट हैं जो आपके पास एसी से डीसी तक हैं, जो वास्तव में बैटरी और डीसी से एसी को चार्ज कर रहे हैं, जो पावर आउटेज की आपूर्ति करता है।अब एसी सर्किट को सीधे लोड किया जाता है और एक फ़ीड जो बैटरी चार्जर को चार्ज करता है ताकि आपके पास उपयोगिता से एक सीधा सर्किट आपके उपकरण और एक चार्ज सर्किट से गुजरता हो।

Online UPS

इसे डबल रूपांतरण के रूप में भी जाना जाता है। यह निर्दिष्ट करने के लिए एक आदर्श प्रणाली है जब एक जनरेटर या अन्य लंबी अवधि के बैकअप सिस्टम के साथ युग्मित किया जाता है। 10KVA से अधिक की इकाइयाँ अब ऑनलाइन या लाइन-इंटरैक्टिव सिस्टम होंगी। एक ऑफ़लाइन प्रणाली के विपरीत, एक ऑनलाइन अप एक क्लीनर, अधिक विनियमित शक्ति स्रोत के साथ भार प्रदान करता है। एक ऑफ़लाइन इकाई के विपरीत मुख्य रूप से आपूर्ति और लोड के बीच कोई सीधा मार्ग नहीं है।

Line interactive UPS

एक लाइन इंटरेक्टिव यूपीएस को वोल्टेज स्टैबलाइजेशन और पावर कंडीशनिंग के अधिक स्तर के साथ एक ऑफ़लाइन इकाई के रूप में शिथिल रूप से वर्णित किया जा सकता है। सामान्य ऑपरेशन में, लाइन इंटरएक्टिव यूनिट लोड को वोल्टेज स्टेबलाइज़र और कंडीशनर (AVS) के माध्यम से मुख्य शक्ति खिलाती है। एक ही समय में, यह एक बैटरी चार्जर को सीधे स्टैंडबाय बैटरी से जुड़ा हुआ है। एक मुख्य विफलता के दौरान, एवीएस से डीसी / एसी इन्वर्टर के माध्यम से बिजली प्रदान करने वाली स्टैंडबाय बैटरी पर लोड स्विच किया जाता है।

UPS का इस्तेमाल कियूं किया जाता है

अगर आपका कंप्यूटर के साथ यूपीएस ना लगा हो और आप विंडो पर कुछ काम कर रहे हो पर अभी तक सेव नहीं किया बस आप काम करते ही जा रहे हो तो उसी समय करंट कट हो गया तो आपने विंडो पर जो भी काम कर रहे थे वह सब इरेज़ हो जाएगा, मतलब आपके पूरे मेहनत बर्बाद हो जाएगा। मगर आपके कंप्यूटर में रूपेश लगा है तो करंट कट होने के बाद भी आपका कंप्यूटर ऑफ नहीं होगा आप चाहो तो डाटा को सेव कर सकते हो और shutdown भी कर सकते हो।

यूपीएस सिंगल फेज और थ्री फेज दोनों में ही आता है। जो सिंगल फेस का है वह हम अपना कंप्यूटर में इस्तेमाल करते हैं जैसे कि घरों में कोई कंप्यूटर हो या फिर कोई कंप्यूटर सेंटर हो,मगर थ्री फेज यूपीएस को हम इंडस्ट्री में इस्तेमाल करते हैं जैसे कि कोई पावर प्लांट है स्टील प्लांट है आदि क्योंकि वहां पर क्रिटिकल लोड होता है वह ज्यादा होता है उसको वहां पर कट नहीं कर सकता इसलिए वहां पर 3 फेज यूपीएस इस्तेमाल किया जाता है।

Power plant industry
Power plant industry

इन्डस्ट्री में 3 फेज जीपीएस इस्तेमाल करने का कारण यह है कि,वहां पर जो थ्री फेज होते हैं उनको अलग-अलग लोड के हिसाब से डिवाइड कर देते है ताकि कोई एक फेज के ऊपर लोड ना पड़े और वहां पर काफी सारे मोटर भी लगा होता है।

Some part’s of UPS in Hindi

हमारे यूपीएस में कई सारे पार्ट्स होते है जिनके बारेमे हम अभी बात करेंगे,

  1. Rectifier
  2. Battery
  3. Static bypass
  4. Inverter

Rectifier

रेक्टिफायर एक इलेक्ट्रिकल डिवाइस है जो एक और एक से ज्यादा P-N जंक्शन डायोड का इस्तेमाल करके Alternating current(AC) से Direct current(DC) को कन्वर्ट करता है। पीएन जंक्शन डायोड के सबसे महत्वपूर्ण एप्लिकेशन में से एक को चालू करने के लिए प्रत्यावर्ती धारा को ठीक करना है। एक डायोड एक दिशा में विद्युत प्रवाह की अनुमति देता है। डायोड की यह अनोखी संपत्ति इसे एक रेक्टिफायर की तरह काम करने की अनुमति देती है।

Battery

बैटरी एक विद्युत स्रोत है जिसमें बिजली के उपकरणों जैसे टॉर्च,मोबाइल फोन ,दूरस्थ(दूरस्थ),इलेक्ट्रिक कार,आदि के लिए बाहरी कनेक्शन के साथ एक या एक से अधिक विद्युत रासायनिक सेल होते हैं।

Static bypass

नार्मल इन्वर्टर में स्टेटिक बाईपास का फंक्शन नेही होता है।मतलब प्रचलित अवस्था में साधारण इन्वर्टर लोड को बाईपास में चलता है और बैटरी चार्जिंग भी करता है पर अगर इन्वर्टर में कोई प्रॉब्लम आ जाये तो नॉर्मल इन्वर्टर मैन को बाईपास करके लोड को नहीं चला पता।

इसीलिए जबतक ये इन्वर्टर ठीक ना हो जाये तबतक इंजीनियर एक temporary solution करता है जोकि इन्वर्टर की आउटपुट से सोकेट निकल के किस मैन इनपुट सोकेट में डालके टेम्पोररीली लोड चलना पड़ता है। Falcon+ में स्टेटिक बाईपास का feature उपलब्ध होता है। अगर ये home UPS में कोई इंटरनल प्रॉब्लम आ जाये या यूपीएस काम करना बंद हो जाये तो static बाईपास का फीचर mains को बाईपास करके लोड चलता है।

Inverter

इन्वर्टर DC वोल्टेज को AC वोल्टेज में परीबर्तन करता है। ज़्यादातर मामलों में इनपुट DC वोल्टेज कम होता है।जबकि आउटपुट AC वोल्टेज ग्रिड सप्लाई वोल्टेज के बराबर करता है या तो 120V या 240V होता है जोकि country पर निर्भर करता है। इन्वर्टर को सौर ऊर्जा जैसी अनुप्रयोगों के लिए उपकरण के रूप में बनाया जा सकता है। या बैटरी से बैकअप बिजली की आपूर्ति के रूप में काम करने के लिए जो अलग से चार्ज किया जाता है।

UPS Block diagram

पहले 220V AC की इनपुट सप्लाई दे देना है और वह सप्लाई चली जाएगी रेक्टिफायर में जो ऐसी टू डीसी में कन्वर्ट कर देगा as a charger के यानी कि यह एक चार्जर का काम करेगा जो की बैटरी को चार्ज करेगा और बैटरी एक इनवर्टर के जरिए डीसी टू एसी में कन्वर्ट कर देगा और 220V ऐसी निकलेगा। इसका जो आउटपुट वोल्टेज निकले गा वो एक कांस्टेंट होगा।

UPS BLOCK DIAGRAM
UPS Block Diagram

यूपीएस की फायदे ओर नुकसान

फायदे

  • पावर ना होने पर ये कंप्यूटर सिस्टम को पावर देता है।
  • ये इलेक्ट्रिक सिस्टम को भी रिस्टोर करता है।
  • अगर यूपीएस सिस्टम में इलेक्ट्रिक डिवाइस रुक जाए तो उसका डेटा सेफ रहता है।
  • ज़्यादा देर तक backup देता है।
  • ये battery पे काम करती है और कंप्यूटर सिस्टम पावर बन्द होने पर एकदम बन्द नेही होता।

नुकसान

  • साधारण UPS बैटरी अधिक समय तक नेही चेलता।
  • ये बैटरी को इस्तेमाल करने से पहले अछि चार्जिंग चाहिए।

UPS and Inverter के बीच मे अंतर

UPSINVERTER
इसका उपयोग home और industry के लिए किया जाता है।Ex: Computer,Modemयह सामान्य इलेक्ट्रॉनिक्स के लिए उपयोग किया जाता हैEx: Light,Fan,TV, freeze
यह अधिक परिष्कृत(sophisticated) है।यह कम परिष्कृत(sophisticated) है।
इसकी पावर इनपुट रेंज 240-279 Vac के आसपास है।यह 170-270Vac घिरा पावर इनपुट रेंज है।
वैकल्पिक शक्ति की आवश्यकता वाले उपकरण से जुड़ा।बैटरी और उपकरणों से जुड़ा।
10 मिलीसेकंड के आसपास समय के साथ बदलें।यह 500 मिलीसेकंड के आसपास समय के साथ बदला है।
ये 2000 से 6000 दाम के बीच मे मिल जाएगा।ये 10,000 से 60,000 के बीच मे मिल जाएगा।
इसमे मेंटेनेंस बिल्कुल भी नेही होता है।इसमे हमेशा मेंटेनेंस देना पड़ता है।
इसका backup time 10 से 20 तक होता है।इसका backup time 6 से 10 घंटे तक होता है।
Difference between UPS and Inverter

Conclusion/निष्कर्ष

हेलो दोस्तो आज हम यंहापर यूपीएस के बारेमे डिटेल्स में जान चुके है। यूपीएस क्या है,उसके कुछ प्रकार के बारेमे ओर उसके पार्ट्स के बारेमे भी जान चुके है। उमीद करता हूँ कि आपको हमारा ये लिख बोहोत पसंद आया होगा । दोस्तो हम हमेशा आपके लिए अछि अछि पोस्ट लेके आते रहते है और आगे ब लेके आएंगे जरूर, और अगर आपने अभीतक हमे subscribe नेही किया तो जरूर कर दे ताकि हमारा नोटिफिकेशन आपके जरिये पहले पोहोंच सके। धन्यबाद

saktiprasad

में एक SEO लेखक हूँ। मुझे कम्प्युटर के बारे में रिसर्च करना और दूसरों के साथ शेयर करना अच्छा लगता है। फिलहाल के लिए में कम्प्युटर शिक्षा में लिखता हूँ। इसके अलावा में दूसरों के लिए भी SEO लिखता हूँ। आप मुझे मेरा सोशल मीडिया पर फॉलो करसकते हें।

saktiprasad has 33 posts and counting. See all posts by saktiprasad

Leave a Reply

Your email address will not be published.