क्रिप्टो माइनिंग (बिटकॉइन माइनिंग) क्या है और बिटकॉइन माइनिंग क्यों और कैसे करते हैं?

क्रिप्टो माइनिंग (बिटकॉइन माइनिंग) क्या है: दोस्तों हम पहले से जान चुके हैं क्रिप्टोकरेंसी क्या है?, और क्रिप्टोकरंसी का फाइनेंस सेक्टर में क्या महत्व रहा है. जब हम क्रिप्टो करेंसी की बात करते हैं तो हमारे सामने कई सारे सवाल भी आते हैं और कोई सारे ऐसे कठिन टर्म्स आते हैं जिसके बारे में हम नहीं जानते. और उसी समय हम को यह समझने में और कठिनाई का सामना करना पड़ता है.

जैसे की हम क्रिप्टो करेंसी की बात करे तो उसमें हम को कोई सारे टॉमस सुनने को मिलते हैं, जैसे कि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी(Blockchain Technology), क्रिप्टो माइनिंग( Crypto Mining), पीर 2 पीर(Peer-to-peer), डिसेंट्रलाइजेशन(Decentralization) एक्सचेंज(Exchange), क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज(Cryptocurrency Exchange), क्रिप्टो वॉलेट(Crypto wallet), डिसेंट्रलाइज्ड फाइनेंस (Decentralized Finance) (DeFi) इत्यादि.

क्रिप्टो माइनिंग
Image Credit- Stock Photos from Canva Premium

आज हम जानने वाले हैं क्रिप्टो माइनिंग (बिटकॉइन माइनिंग) क्या है और बिटकॉइन माइनिंग क्यों करते हैं? तो बिना समय बर्बाद की है आइए देखते हैं कि क्रिप्टो माइनिंग या बिटकॉइन माइनिंग क्या है. उससे पहले हमको यह जानना पड़ेगा कि ट्रेडिंग क्या है.

ट्रेडिंग क्या है

यदि आप क्रिप्टोकरेंसी के बारे में कुछ ना कुछ जानते हैं तो आप ट्रेडिंग के बारे में जरूर जानते होंगे. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ट्रेडिंग का मतलब यह होता है कि कोई भी चीज को कम दाम में खरीद के उसको ज्यादा दान में बेचना और उसी से प्रॉफिट निकालना.

जितने भी क्रिप्टो करेंसी है जैसे कि बिटकॉइन, एथेरियम, शीबा इनु कॉइन, को हम कम दाम में खरीदते हैं और उसको होल्ड करके रखते हैं जब तक उसका प्राइस अच्छा खासा बढ़ नहीं जाता. और जब बढ़ जाता है हम उसी को बेच देते हैं. आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा कि हम Bitcoin तो खरीद लिया पर Bitcoin बनता कैसे है. तो यहां पर आ जाता है बिटकॉइन माइनिंग बात, जहां से बनती है बिटकॉइन.

क्रिप्टो माइनिंग (बिटकॉइन माइनिंग) क्या है?

बिटकॉइन माइनिंग से बिटकॉइन बनता है. बिटकॉइन एक्लिमिटेड क्वांटिटी पर उपलब्ध है और कुछ लोग उसको माइनिंग करके निकलते हैं. जो लोग माइनिंग करते हैं उनको बिटकॉइन माइनर बोलते हैं. और इसीलिए इनको बिटकॉइन का कुछ हिस्सा मिलता है.

Bitcoin mining
Image Credit- Stock Photos from Canva Premium

बिटकॉइन माइनिंग मैं जो माइनिंग का Term आता है, उसको आप जरुर जानते होंगे. माइनिंग का मतलब यह होता है कि कोई भी नेचुरल रिसोर्सेस जो हमारे धरती पर उपलब्ध है उसको खुदाई करके निकालना. नेचुरल रिसोर्सेज जैसे कि कोयला, लोहा, सोना इत्यादि एक लिमिटेड क्वांटिटी में धरती पर उपलब्ध होते हैं और उसी को हम माइनिंग करके निकलते हैं. ठीक वैसे ही बिटकॉइन कुछ लिमिटेड क्वांटिटी में है.

तो आइए जान लेते हैं बिटकॉइन से जुड़ी हुई कुछ जरूरी बातें

  • Bitcoin: A Cryptocurrency
  • Bitcoin Market cap: >US$775 billion
  • Code of Bitcoin: BTC, XBT
  • White paper: “Bitcoin: A Peer-to-Peer Electronic Cash System”
  • Supply limit: ₿ 21,000,000 (21 Millon Bitcoin total)
  • Circulating supply: ₿ 18,925,000 (As 2022 January)
  • Symbols of Bitcoin: BTC, ฿, ₿

बिटकॉइन माइनिंग क्यों और कैसे करते हैं?

यदि हम आपको एक साधारण सा उदाहरण दे तो जैसे हम किसी के पास पैसा भेज ते हैं तो पहले हम जिस इंसान के बैंक अकाउंट में पैसा भेजते हैं, पहले उसका बैंक के पास एक रिक्वेस्ट जाता है और बैंक वालों ने उस रिक्वेस्ट को प्रोसेसिंग करके पर्टिकुलर उस बैंक अकाउंट का अकाउंट होल्डर के पास पैसा पहुंच जाता है. बैंक इसके लिए कुछ पैसा यूजर से चार्ज करता है.

bitcoin mining
Image Credit- Stock Photos from Canva Premium

ठीक वैसे जब सतोशी नाकामोतो ने बिटकॉइन डेवलप किया था उसको हमारा बैंकिंग सिस्टम से थोड़ा बेहतर और अलग बनाया था. जब हम किसी के बैंक अकाउंट में पैसा भेजते हैं तो इसी के लिए जो प्रोसेस करता है उसके लिए कुछ चार्ज लेता है. और यह सिर्फ बैंक वालों के हाथों में है इसीलिए सिर्फ कुछ ही लोग जो बैंक में काम करते हैं उनको उसका फायदा होता है.

हमारे बैंक के पास हमारा पैसा ट्रांजैक्शन का एक रिकॉर्ड मेंटेन रहता है और उस रिकार्ड को सिर्फ बैंक और ट्रांजैक्शन होने वाला अकाउंट का मालिक के पास रहता है. परंतु बिटकॉइन में ऐसे नहीं है. सतोशी नाकामोतो ने जब बिटकॉइन का डिवेलप किया था तब उसको उसका रिकॉर्ड मेंटेन करने के लिए कोई चुनिंदा लोगों को नहीं रखा. उसको कोई भी एक्सेस कर सकते हैं और इसको Blockchain System बोलते हैं.

Bitcoin miners
Image Credit- Stock Photos from Canva Premium

बिटकॉइन माइनिंग करने के लिए जो Miners होते हैं उनके पास High-end कंप्यूटर डिवाइस होते हैं और बिटकॉइन माइनिंग करने के लिए विशेष सॉफ्टवेयर भी होते हैं. जिसकी सहायता से आसानी से कई जटिल मैथमेटिकल कैलकुलेशन को समाधान करके बिटकॉइन माइनिंग करते हैं. 21 मिलियन बिटकॉइन से आज तक 18 मिलियन बिटकॉइन माइनिंग किया जा चुका है. और विशेष सूत्रों के मुताबिक हर दिन 800 बिटकॉइन Generate किया जा रहा है. तो इसीलिए बिटकॉइन माइनिंग करते हैं.

आज आपने क्या सीखा

आज हमने बात किया कि क्रिप्टो माइनिंग (बिटकॉइन माइनिंग) क्या है और बिटकॉइन माइनिंग क्यों और कैसे करते हैं? और यह भी देखा कि ट्रेडिंग क्या होता है. हमें उम्मीद है कि आपको यह लेख बेहद पसंद आया होगा. यदि इसके ऊपर आपका कुछ सवाल है तो आप कमेंट में हमको जरूर पूछ सकते हैं. यदि और कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आप कमेंट बॉक्स में भी दे सकते हैं. क्या आपने कभी बिटकॉइन पर इन्वेस्ट किया है या कभी दूसरे क्रिप्टोकरेंसी पर इन्वेस्ट किया है तो आपका फीडबैक जरूर दें.

Write some interesting