Encoding Meaning In Hindi | एन्कोडिंग क्या है?

आज हम यहां आपको बताने जा रहे हैं Encoding Meaning In Hindi| डिजिटल युग में कम्युनिकेशन को सक्षम करने और सूचना को संरक्षित करने के लिए एन्कोडिंग एक महत्वपूर्ण उपकरण है।| यह सूचना के कुशल संचरण और भंडारण की अनुमति देता है और Data की सुरक्षा और अखंडता सुनिश्चित करने में मदद करता है।

इसलिए इस ब्लॉग में हम विभिन्न प्रकार के एन्कोडिंग को शामिल करने जा रहे हैं जैसे एन्कोडिंग क्या है,  Encoding Meaning In Hindi, Types Of Encoding In Hindi, How Encoding Work In Hindi.

Encoding Meaning In Hindi

हिंदी में, शब्द “Encoding” (एंकोडिंग) सूचना को एक Format से दूसरे Format में परिवर्तित करने की प्रक्रिया को संदर्भित करता है, आमतौर पर कुशल संचरण या भंडारण के उद्देश्य के लिए। सूचना के कुशल संचरण और भंडारण को सक्षम करने और Data की सुरक्षा और अखंडता सुनिश्चित करने के लिए कंप्यूटर विज्ञान, दूरसंचार और Media सहित कई अलग-अलग क्षेत्रों में इस प्रक्रिया का उपयोग किया जाता है। टेक्स्ट एन्कोडिंग, ऑडियो एन्कोडिंग, वीडियो एन्कोडिंग, डेटा एन्कोडिंग और यूआरएल (URL) एन्कोडिंग सहित कई अलग-अलग प्रकार के एन्कोडिंग हैं, प्रत्येक एक विशिष्ट उद्देश्य की पूर्ति करता है।

Encodingकोडितकरना
Encodingकूट बनाना
Encodingसांकेतिक शब्दों में बदलना 
Encodingसंकेतीकरण

यहां हिंदी में विभिन्न प्रकार के एन्कोडिंग की सूची दी गई है:

  1. प्रतिस्थापन सिफर (Substitution ciphers)
  2. ट्रांसपोज़िशन सिफर(Transposition ciphers)
  3. क्रिप्टोग्राफिक एल्गोरिदम (Cryptographic algorithms)
  4. स्टेग्नोग्राफ़ी (Steganography)
  5. हैश फ़ंक्शंस (Hash functions)
  6. दोषरहित एन्कोडिंग(Lossless encoding)
  7. हानिपूर्ण एन्कोडिंग (Lossy encoding)
  8. संरचित एन्कोडिंग (Structured encoding)
  9. असंरचित एन्कोडिंग (Unstructured encoding)

डिजिटल  कम्प्यूटर युग में संचार को सक्षम करने और सूचना को संरक्षित करने के लिए एन्कोडिंग एक महत्वपूर्ण उपकरण है। यह सूचना के कुशल संचरण और भंडारण की अनुमति देता है, और Data की सुरक्षा और अखंडता सुनिश्चित करने में मदद करता है।

हम प्रत्येक प्रकार के एन्कोडिंग को नीचे और अधिक विवरण में देखेंगे 

एनकोडिंग क्या है? | What is Encoding In Hindi?

What is Encoding In Hindi?

एन्कोडिंग आमतौर पर कुशल संचरण या भंडारण के उद्देश्य से जानकारी को एक Format से दूसरे Format में परिवर्तित करने की प्रक्रिया है। यह कंप्यूटर विज्ञान, दूरसंचार और Media सहित कई अलग-अलग क्षेत्रों का एक महत्वपूर्ण पहलू है।

टेक्स्ट एन्कोडिंग, ऑडियो एन्कोडिंग, वीडियो एन्कोडिंग, डेटा एन्कोडिंग और URL एन्कोडिंग सहित कई अलग-अलग प्रकार के एन्कोडिंग हैं। प्रत्येक प्रकार का एन्कोडिंग एक विशिष्ट उद्देश्य प्रदान करता है, जैसे लिखित भाषा को डिजिटल Format में परिवर्तित करना, ध्वनि तरंगों को डिजिटल Format में परिवर्तित करना, वीडियो फुटेज को डिजिटल Format में परिवर्तित करना, Data को अधिक Compact या सुरक्षित Format में परिवर्तित करना, या वर्णों को एक में परिवर्तित करना इंटरनेट पर प्रसारण के लिए सुरक्षित Format में यूआरएल।

एन्कोडिंग सूचना के कुशल संचरण और भंडारण की अनुमति देता है, और Data की सुरक्षा और अखंडता सुनिश्चित करने में मदद करता है। यह डिजिटल युग में संचार को सक्षम करने और सूचना को संरक्षित करने के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण है।

एन्कोडिंग के प्रकार

यहां विभिन्न प्रकार के एन्कोडिंग की अधिक विस्तृत सूची दी गई है:

प्रतिस्थापन सिफर (Substitution ciphers):

इनमें सादे पाठ संदेश के प्रत्येक अक्षर को एक अलग अक्षर या प्रतीक के साथ बदलना शामिल है। एक उदाहरण सीज़र सिफर है, जो प्रत्येक अक्षर को उस अक्षर से बदल देता है जो वर्णमाला के नीचे एक निश्चित संख्या में होता है।

एक प्रतिस्थापन सिफर का एक उदाहरण सीज़र सिफर है, जो प्रत्येक अक्षर को उस अक्षर से बदल देता है जो वर्णमाला के नीचे एक निश्चित संख्या में होता है।

ट्रांसपोज़िशन सिफर(Transposition ciphers):

इसमें सादे पाठ संदेश में अक्षरों के क्रम को पुनर्व्यवस्थित करना शामिल है, अक्षरों को स्वयं बदले बिना। एक उदाहरण कॉलमर ट्रांसपोजिशन सिफर है, जिसमें संदेश ग्रिड में लिखा जाता है और फिर Encoded संदेश बनाने के लिए कॉलम द्वारा कॉलम पढ़ा जाता है

ट्रांसपोजिशन सिफर का एक उदाहरण कॉलमर ट्रांसपोजिशन सिफर है, जिसमें संदेश ग्रिड में लिखा जाता है और फिर Encoded संदेश बनाने के लिए कॉलम द्वारा कॉलम पढ़ा जाता है।

क्रिप्टोग्राफिक एल्गोरिदम (Cryptographic algorithms):

ये जटिल गणितीय एल्गोरिदम हैं जिनका उपयोग संदेशों को एन्कोड और डीकोड करने के लिए किया जाता है। उदाहरणों में उन्नत encryption standard (AES) और Rivest-Shamir-Edelman (RSE) Algorithm शामिल हैं।

क्रिप्टोग्राफ़िक एल्गोरिदम का एक उदाहरण उन्नत एन्क्रिप्शन स्टैंडर्ड (एईएस) है, जो व्यापक रूप से पारगमन और आराम पर Data को सुरक्षित करने के लिए उपयोग किया जाता है।

स्टेग्नोग्राफ़ी (Steganography):

यह किसी संदेश को किसी अन्य संदेश या किसी छवि या अन्य डिजिटल फ़ाइल में छुपाने की प्रथा है।

स्टेग्नोग्राफ़ी का एक उदाहरण एक छवि फ़ाइल के पिक्सल के भीतर एक संदेश छुपा रहा है, ताकि संदेश नग्न आंखों को दिखाई न दे लेकिन विशेष सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके निकाला जा सकता है।

हैश फ़ंक्शंस (Hash functions):

ये एल्गोरिदम हैं जिनका उपयोग किसी संदेश के निश्चित आकार के प्रतिनिधित्व को बनाने के लिए किया जाता है, जिसे हैश या संदेश डाइजेस्ट कहा जाता है। किसी संदेश की अखंडता सुनिश्चित करने के लिए अक्सर हैश का उपयोग किया जाता है, क्योंकि संदेश में किसी भी परिवर्तन के परिणामस्वरूप एक अलग हैश होगा।

हैश फ़ंक्शन का एक उदाहरण SHA-256 (सिक्योर हैश एल्गोरिथम 256-Bit) है, जिसका उपयोग संदेश डाइजेस्ट नामक संदेश के निश्चित आकार के प्रतिनिधित्व को बनाने के लिए किया जाता है।

दोषरहित एन्कोडिंग(Lossless encoding):

इस प्रकार की एन्कोडिंग Encoded Format में परिवर्तित करते समय सभी मूल Data को संरक्षित करती है। यह उस Data के लिए महत्वपूर्ण है जिसे सटीक रूप से संरक्षित किया जाना चाहिए, जैसे कि वित्तीय रिकॉर्ड या वैज्ञानिक Data।

दोषरहित एन्कोडिंग का एक उदाहरण ZIP file स्वरूप है, जो किसी भी मूल जानकारी को खोए बिना Data को संपीड़ित करता है।

हानिपूर्ण एन्कोडिंग (Lossy encoding):

इस प्रकार के एन्कोडिंग में अधिक Compact Encoded संस्करण बनाने के लिए कुछ मूल Data को छोड़ना शामिल है। यह अक्सर Data के लिए उपयोग किया जाता है जिसे अनुमानित किया जा सकता है, जैसे ऑडियो और वीडियो फ़ाइलें।

हानिपूर्ण एन्कोडिंग का एक उदाहरण एमपी3 ऑडियो फ़ाइल स्वरूप है, जो अधिक compact fileबनाने के लिए कुछ मूल ऑडियो Data को छोड़ देता है।

संरचित एन्कोडिंग (Structured encoding):

इसमें Data को एक संरचित Format में परिवर्तित करना शामिल है, जैसे कि XML या JSON, ताकि इसे कंप्यूटर द्वारा अधिक आसानी से Decode योग्य बनाया जा सके।

संरचित एन्कोडिंग का एक उदाहरण XML (एक्सटेंसिबल मार्कअप लैंग्वेज) Format है, जिसका उपयोग Data को इस तरह से एन्कोड करने के लिए किया जाता है जो कंप्यूटर के लिए Decode करना आसान हो।

असंरचित एन्कोडिंग (Unstructured encoding):

इसमें Data को ऐसे Format में परिवर्तित करना शामिल है जिसे कंप्यूटर द्वारा आसानी से Decode नहीं किया जा सकता है, जैसे Binary File।

असंरचित एन्कोडिंग का एक उदाहरण Binary File स्वरूप है, जो Data को 0s और 1s की Sequence के रूप में एन्कोड करता है जो मनुष्यों द्वारा आसानी से Decode नहीं किया जा सकता है।

आशा है आपको Types Of Encoding In Hindi के सभी प्रकार मिल गए होंगे|

What Is Encoder Meaning In Hindi?

What Is Encoder Meaning In Hindi?

एक एनकोडर एक उपकरण या सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम है  जिसका उपयोग सूचना को एक Format से दूसरे Format में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है, आमतौर पर कुशल संचरण या भंडारण के उद्देश्य से। कंप्यूटर विज्ञान, दूरसंचार और Media सहित कई अलग-अलग क्षेत्रों में एनकोडर का उपयोग किया जाता है।

टेक्स्ट एन्कोडर, ऑडियो एन्कोडर, वीडियो एन्कोडर, Data एन्कोडर और यूआरएल एन्कोडर समेत कई अलग-अलग प्रकार के एन्कोडर हैं। प्रत्येक प्रकार का एन्कोडर एक विशिष्ट उद्देश्य प्रदान करता है, जैसे लिखित भाषा को डिजिटल Format में परिवर्तित करना, ध्वनि तरंगों को डिजिटल Format में परिवर्तित करना, वीडियो फुटेज को डिजिटल Format में परिवर्तित करना, Data को अधिक Compact या सुरक्षित Format में परिवर्तित करना, या अक्षरों को एक में परिवर्तित करना इंटरनेट पर प्रसारण के लिए सुरक्षित Format में यूआरएल।

एनकोडर आमतौर पर डिकोडर्स के संयोजन में उपयोग किए जाते हैं, जो डिवाइस या सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम होते हैं जिनका उपयोग Encoded जानकारी को उसके मूल स्वरूप में वापस बदलने के लिए किया जाता है। साथ में, एनकोडर और डिकोडर सूचना के कुशल संचरण और भंडारण को सक्षम करते हैं, और Data की सुरक्षा और अखंडता सुनिश्चित करने में मदद करते हैं।

एनकोडर के प्रकार

कई अलग-अलग प्रकार के एनकोडर हैं, जिनमें शामिल हैं:

  1. टेक्स्ट एनकोडर (Text encoders): इनका उपयोग लिखित भाषा को एक डिजिटल Format में बदलने के लिए किया जाता है जिसे इलेक्ट्रॉनिक रूप से संग्रहीत और प्रसारित किया जा सकता है।
  1. ऑडियो एनकोडर ( Audio encoders): इनका उपयोग ध्वनि तरंगों को एक डिजिटल Format में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है जिसे इलेक्ट्रॉनिक रूप से संग्रहीत और प्रसारित किया जा सकता है।
  1. वीडियो एनकोडर (Video encoders): इनका उपयोग वीडियो फुटेज को एक डिजिटल Format में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है जिसे इलेक्ट्रॉनिक रूप से संग्रहीत और प्रसारित किया जा सकता है।
  1. Data एनकोडर (Data encoders): इनका उपयोग Data को अधिक Compact या सुरक्षित Format में बदलने के लिए किया जाता है।
  1. URL एनकोडर (URL encoders): इनका उपयोग इंटरनेट पर प्रसारण के लिए URL में वर्णों को एक सुरक्षित Format में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है। QR Code एक प्रकार के एन्कोडिंग का एक उदाहरण है जिसे URL के साथ सूचना के कुशल और विश्वसनीय संचरण के लिए डिज़ाइन किया गया है
  1. रोटरी एनकोडर (Rotary encoders): ये ऐसे उपकरण हैं जिनका उपयोग शाफ्ट या अन्य घूर्णन वस्तु की कोणीय स्थिति को मापने के लिए किया जाता है। वे अक्सर रोबोटिक्स और ऑटोमेशन सिस्टम में उपयोग किए जाते हैं।
  1. पल्स-कोड मॉड्यूलेशन (पीसीएम) एनकोडर(Pulse-code modulation (PCM) encoders): इनका उपयोग एनालॉग सिग्नल, जैसे ध्वनि तरंगों को डिजिटल Format में बदलने के लिए किया जाता है।
  1. डिफरेंशियल पल्स-कोड मॉड्यूलेशन एनकोडर(Differential pulse-code modulation (DPCM) encoders): इनका उपयोग Data में अतिरेक का लाभ उठाकर ऑडियो और वीडियो Data को संपीड़ित करने के लिए किया जाता है।
  1. अंकगणित एनकोडर(Arithmetic encoders) : संदेश में प्रतीक की आवृत्ति के आधार पर चर-लंबाई कोड वाले संदेश में प्रत्येक प्रतीक को एन्कोड करके Data को संपीड़ित करने के लिए उपयोग किया जाता है।

मुझे उम्मीद है कि यह सूची मददगार रही होगी!

Encoded Data Format In Hindi

एन्कोडिंग जानकारी के लिए कई अलग-अलग Format हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं:

  1. ASCII (American Standard Code for Information Interchange): यह एक वर्ण एन्कोडिंग मानक है जो प्रत्येक अक्षर, अंक और प्रतीक को एक अद्वितीय 7-Bit या 8-Bit BinaryNumber के रूप में दर्शाता है। ASCII का व्यापक रूप से टेक्स्ट-आधारित जानकारी को एन्कोड करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  2. Unicode: यह एक वर्ण एन्कोडिंग मानक है जो दुनिया में प्रत्येक लिखित भाषा के प्रत्येक अक्षर, अंक और प्रतीक को एक अद्वितीय 16-Bit या 32-Bit BinaryNumber के रूप में दर्शाता है। यूनिकोड का उपयोग विभिन्न प्रकार की भाषाओं में टेक्स्ट को एनकोड करने के लिए किया जाता है।
  1. Base64: यह एक बाइनरी-टू-टेक्स्ट एन्कोडिंग योजना है जो ASCII स्ट्रिंग Format में BinaryData का प्रतिनिधित्व करती है। बेस 64 का उपयोग अक्सर यूआरएल में Data को एन्कोड करने के लिए और टेक्स्ट ट्रांसमिट करने के लिए डिज़ाइन किए गए कंप्यूटर नेटवर्क पर BinaryData स्थानांतरित करने के लिए किया जाता है।
  1. HTML (HyperText Markup Language): यह एक मार्कअप लैंग्वेज है जिसका उपयोग वेब पेजों की संरचना और सामग्री को एनकोड करने के लिए किया जाता है। HTML तत्वों की शुरुआत और अंत को चिह्नित करने के लिए Tag का उपयोग करता है, जैसे शीर्षक, पैराग्राफ और सूचियां।
  1. XML (Extensible Markup Language): यह एक मार्कअप लैंग्वेज है जिसका उपयोग Data को इस तरह से एनकोड करने के लिए किया जाता है जो कंप्यूटर के लिए Decode करना आसान हो। एक्सएमएल तत्वों की शुरुआत और अंत को चिह्नित करने के लिए Tagका उपयोग करता है, और उपयोगकर्ताओं को अपने स्वयं के कस्टम Tagको परिभाषित करने की अनुमति देता है।
  1. JSON (JavaScript Object Notation): यह एक हल्का Data-इंटरचेंज Format है जिसका उपयोग Data को एन्कोड करने के लिए किया जाता है जो कंप्यूटर के लिए पार्स करना और उत्पन्न करना आसान है। JSON कुंजी-मूल्य जोड़े के रूप में Data को एन्कोड करने के लिए एक सरल, मानव-पठनीय सिंटैक्स का उपयोग करता है।

एनकोडिंग कैसे काम करता है?

एन्कोडिंग जानकारी को एक Format से दूसरे Format में परिवर्तित करके काम करता है, आमतौर पर कुशल संचरण या भंडारण के उद्देश्य से। एन्कोडिंग की प्रक्रिया में कई चरण शामिल होते हैं, जो उपयोग किए जा रहे विशिष्ट प्रकार के एन्कोडिंग के आधार पर भिन्न हो सकते हैं।

एन्कोडिंग का उद्देश्य निर्धारित करें (Determine the purpose of the encoding): एन्कोडिंग प्रक्रिया में पहला कदम एन्कोडिंग के उद्देश्य को निर्धारित करना है, जैसे किसी Network पर सूचना प्रसारित करना या इसे Compact Format में संग्रहीत करना।

एक एन्कोडिंग विधि चुनें (Choose an encoding method): एन्कोडिंग के कई अलग-अलग तरीके हैं, जिनमें प्रतिस्थापन सिफर, ट्रांसपोजिशन सिफर, क्रिप्टोग्राफ़िक एल्गोरिदम, स्टेग्नोग्राफ़ी और हैश फ़ंक्शन शामिल हैं। उपयुक्त विधि एन्कोडिंग के उद्देश्य और उस सिस्टम की आवश्यकताओं पर निर्भर करेगी जिसमें Encoded जानकारी का उपयोग किया जाएगा।

जानकारी को सांकेतिक शब्दों में बदलना (Encode the information): एक बार एन्कोडिंग विधि का चयन कर लेने के बाद, चुनी गई विधि का उपयोग करके जानकारी को परिवर्तित कर दिया जाता है। इसमें आम तौर पर जानकारी को Encoded Format में बदलने के लिए नियमों या Algorithm का एक सेट लागू करना शामिल है।

Encoded जानकारी का परीक्षण करें (Test the encoded information): यह सुनिश्चित करने के लिए Encoded जानकारी का परीक्षण करना महत्वपूर्ण है कि इसे सही ढंग से डिकोड किया जा सकता है। यह आमतौर पर उपयुक्त डिकोडिंग टूल या ज्ञान का उपयोग करके जानकारी को डिकोड करने का प्रयास करके किया जाता है।

Encoded जानकारी साझा करें (Share the encoded information): एन्कोडिंग प्रक्रिया में अंतिम चरण किसी भी आवश्यक डिकोडिंग टूल या निर्देशों के साथ Encoded जानकारी को इच्छित प्राप्तकर्ता के साथ साझा करना है।

मुझे उम्मीद है कि यह आपको एन्कोडिंग कैसे काम करता है इसका एक विचार देने में मदद करता है! 

डेटा एन्कोडिंग आमतौर पर कुशल संचरण या भंडारण के उद्देश्य से Data को एक Format से दूसरे Format में परिवर्तित करने की प्रक्रिया है। डेटा एन्कोडिंग के कई अलग-अलग प्रकार हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं:

  1. दोषरहित एन्कोडिंग (Lossless encoding): इस प्रकार की एन्कोडिंग Encoded Format में परिवर्तित करते समय सभी मूल Data को संरक्षित करती है। यह उस Data के लिए महत्वपूर्ण है जिसे सटीक रूप से संरक्षित किया जाना चाहिए, जैसे कि वित्तीय रिकॉर्ड या वैज्ञानिक Data।
  2. हानिपूर्ण एन्कोडिंग (Lossy encoding): इस प्रकार के एन्कोडिंग में अधिक Compact Encoded संस्करण बनाने के लिए कुछ मूल Data को छोड़ना शामिल है। यह अक्सर Data के लिए उपयोग किया जाता है जिसे अनुमानित किया जा सकता है, जैसे ऑडियो और वीडियो फ़ाइलें।
  3. संरचित एन्कोडिंग (Structured encoding): इसमें Data को एक संरचित Format में परिवर्तित करना शामिल है, जैसे कि XML या JSON, ताकि इसे कंप्यूटर द्वारा अधिक आसानी से Decode योग्य बनाया जा सके।
  4. असंरचित एन्कोडिंग (Unstructured encoding): इसमें Data को ऐसे Format में परिवर्तित करना शामिल है जिसे कंप्यूटर द्वारा आसानी से Decode नहीं किया जा सकता है, जैसे BinaryFile।
  5. क्रिप्टोग्राफ़िक एन्कोडिंग(Cryptographic encoding): इसमें Data को अनधिकृत पहुंच से बचाने के लिए Data को सुरक्षित, Encoded Format में बदलने के लिए Cryptographic Algorithm का उपयोग करना शामिल है।

कंप्यूटर विज्ञान, दूरसंचार और Media सहित कई अलग-अलग क्षेत्रों में डेटा एन्कोडिंग एक महत्वपूर्ण पहलू है। यह Data के कुशल संचरण और भंडारण की अनुमति देता है, और सूचना की सुरक्षा और अखंडता सुनिश्चित करने में मदद करता है।

निष्कर्ष

अंत में, डिजिटल युग में सूचना के प्रसारण और भंडारण में एन्कोडिंग एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। इसमें जानकारी को एक Format से दूसरे Format में परिवर्तित करना शामिल है, आमतौर पर कुशल संचरण या भंडारण के उद्देश्य के लिए। कई अलग-अलग प्रकार के एन्कोडिंग हैं, जिनमें से प्रत्येक एक विशिष्ट उद्देश्य की पूर्ति करता है।

डिजिटल युग में संचार को सक्षम करने और सूचना को संरक्षित करने के लिए एन्कोडिंग एक महत्वपूर्ण उपकरण है। यह सूचना के कुशल संचरण और भंडारण की अनुमति देता है, और Data की सुरक्षा और अखंडता सुनिश्चित करने में मदद करता है। चाहे आप एक कंप्यूटर वैज्ञानिक हों, एक दूरसंचार पेशेवर हों, या कोई ऐसा व्यक्ति जो दैनिक आधार पर इंटरनेट का उपयोग करता हो, डिजिटल दुनिया में नेविगेट करने के लिए एन्कोडिंग के सिद्धांतों को समझना आवश्यक है।

आशा है कि आपको एन्कोडिंग पर पूरी विस्तृत जानकारी मिल गई होगी यदि आपके पास इसके बारे में कोई अन्य प्रश्न हैं तो बेझिझक Comment Box में पूछें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *