नमस्कार दोस्तों आज इस आर्टिकल में हम HTTPS प्रोटोकॉल की पूरी जानकारी देखने जा रहे हैं। हम HTTPS की फुल फॉर्म क्या है, HTTPS क्या है? जैसे टॉपिक पर सवाल भी देखेंगे।

HTTPS का उपयोग करने वाली Website Browser के address bar में एक padlock icon प्रदर्शित करती हैं, जो दर्शाता है कि Connection Secure है।

HTTPS Full Form | HTTPS की फुल फॉर्म क्या है

HTTPS का मतलब Hypertext Transfer Protocol Secure है। यह Internet पर Data संचारित करने के लिए उपयोग किए जाने वाले मानक HTTP प्रोटोकॉल का एक सुरक्षित संस्करण है।

What is HTTPS In Hindi | HTTPS क्या है?

HTTPS (Hypertext Transfer Protocol Secure) Internet पर Data को सुरक्षित रूप से प्रसारित करने के लिए एक प्रोटोकॉल है। यह अनिवार्य रूप से Data के Communication करने के लिए उपयोग किए जाने वाले मानक HTTP (Hypertext Transfer Protocol) का विस्तार है। दोनों के बीच मुख्य अंतर यह है कि HTTPS उपयोगकर्ता के Web Browser और Website के बीच कनेक्शन को Security Encode करने के लिए SSL (Secure Socket Layer) या इसके उत्तराधिकारी, TLS (Transport Layer Security) का उपयोग करता है। यह संवेदनशील जानकारी, जैसे कि Login Credential और Credit Card Number, को third parties द्वारा intercept किए जाने से बचाने में मदद करता है।

HTTPS को पहली बार 1994 में Netscape द्वारा पेश किया गया था और तब से इसे Website द्वारा उपयोगकर्ता Data की सुरक्षा के साधन के रूप में व्यापक रूप से अपनाया गया है। HTTPS का उपयोग करने वाली Website Browser के address bar में एक padlock icon प्रदर्शित करती हैं, जो दर्शाता है कि Connection Secure है। HTTPS आमतौर पर ऑनलाइन खुदरा विक्रेताओं, बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों और संवेदनशील जानकारी को संभालने वाली किसी भी अन्य Website द्वारा उपयोग किया जाता है।

Data की सुरक्षा और उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता के लिए HTTPS का उपयोग महत्वपूर्ण है। यह Man-in-the-Middle attack, eavesdropping और Data से छेड़छाड़ को रोकने में मदद करता है।

History Of HTTPS | HTTPS का इतिहास क्या है? 

HTTPS के इतिहास का पता Internet के शुरुआती दिनों में लगाया जा सकता है, जब पहले Web Browser और Website विकसित किए जा रहे थे। शुरुआत में, Internet पर प्रसारित सभी Data सादे पाठ में किया गया था, जिससे यह third parties द्वारा अवरोधन और छेड़छाड़ के प्रति संवेदनशील हो गया।

1990 के दशक की शुरुआत में, Internet पर Encryption शुरू करके इस मुद्दे को हल करने का पहला प्रयास किया गया था। पहले प्रस्तावित समाधानों में से एक Secure Hypertext Transfer Protocol (S-HTTP) था, जिसे Eric Rescorla द्वारा विकसित किया गया था और इसे पूरे सत्र के बजाय व्यक्तिगत संदेशों को Encrypt करने के लिए डिज़ाइन किया गया था।

हालाँकि, इसे व्यापक रूप से नहीं अपनाया गया था और 1994 में, Netscape कम्युनिकेशंस ने Secure Socket Layer (SSL) प्रोटोकॉल विकसित किया, जिसे बाद में Transport Layer Security (TLS) द्वारा बदल दिया गया। SSL और TLS दोनों उपयोगकर्ता के Web Browser और Website के बीच पूरे सत्र को Encrypt करते हैं, जिससे यह S-HTTP से कहीं अधिक सुरक्षित हो जाता है।

Netscape ने HTTPS पेश किया जो मानक HTTP प्रोटोकॉल का विस्तार है जो कनेक्शन को Encrypt करने के लिए SSL/TLS का उपयोग करता है। सुरक्षित वेब संचार के लिए यह पहला व्यापक रूप से अपनाया गया समाधान था, और तब से यह सुरक्षित Internet संचार के लिए मानक बन गया है।

बाद में, 2000 के दशक की शुरुआत में, संवेदनशील उपयोगकर्ता जानकारी जैसे Credit Card Number और व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा के लिए HTTPS को वित्तीय संस्थानों और E-Commerce Website द्वारा व्यापक रूप से अपनाया गया था।

हाल के वर्षों में, Google ने विभिन्न पहलों के माध्यम से HTTPS को व्यापक रूप से अपनाने के लिए जोर देना शुरू कर दिया है, जैसे HTTPS का उपयोग करने वाली साइटों को खोज परिणामों में वरीयता देना और अंततः non-HTTPS साइटों को Chrome में “सुरक्षित नहीं” के रूप में चिह्नित करना।

आजकल HTTPS का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है और इसे Internet पर सुरक्षित संचार के लिए एक मानक के रूप में माना जाता है।

Working Of HTTPS | HTTPS कैसे काम करता है?

Working Of HTTPS

HTTPS (Hypertext Transfer Protocol Secure) उपयोगकर्ता के Web Browser और Website के बीच कनेक्शन को Encrypt करके काम करता है। यह संचारित होने वाले Data को Encrypt करने और Website को प्रमाणित करने के लिए SSL (Secure Socket Layer) या इसके उत्तराधिकारी, TLS(Transport Layer Security) के संयोजन का उपयोग करता है।

जब कोई उपयोगकर्ता HTTPS का उपयोग करके किसी Website पर जाता है, तो निम्न प्रक्रिया होती है:

  1. उपयोगकर्ता का Web Browser सुरक्षित कनेक्शन आरंभ करने के लिए Website के Server को एक अनुरोध भेजता है।
  1. Server अपना SSL/TLS Certificate भेजकर जवाब देता है, जिसमें एक Encrypt कनेक्शन स्थापित करने के लिए आवश्यक private key होती है।
  2. Browser यह सुनिश्चित करने के लिए Certificate की पुष्टि करता है कि यह वैध है और एक trusted certificate authority द्वारा जारी किया गया है।
  1. एक बार Certificate सत्यापित हो जाने के बाद, Browser और Server symmetric key का उपयोग करके Encrypted कनेक्शन स्थापित करने के लिए public key का उपयोग करते हैं।
  1. एक बार कनेक्शन स्थापित हो जाने के बाद, Browser और Server के बीच प्रसारित सभी Data को symmetric key का उपयोग करके Encrypt और Decrypt किया जाता है।
  1. फिर symmetric key को छोड़ दिया जाता है और प्रत्येक नए सत्र के लिए एक नया बनाया जाता है।
  1. Website के Certificate में साइट की private key होती है, और Browser symmetric key को Encrypt करने के लिए private key का उपयोग करता है और इसे Server पर वापस भेजता है।
  1. Server symmetric key को Encryption को Decode करने के लिए अपनी निजी कुंजी का उपयोग करता है और अब Browser और Server Encrypted तरीके से संचार कर सकते हैं।

एक Encrypted कनेक्शन स्थापित करने की यह प्रक्रिया संवेदनशील जानकारी, जैसे कि Login Credential और Credit Card Number, को third parties द्वारा intercept किए जाने से बचाने में मदद करती है। HTTPS का उपयोग करने वाली Website Browser के address bar में एक padlock icon प्रदर्शित करती हैं, जो दर्शाता है कि Connection Secure है।

Advantages of HTTPS In Hindi | HTTPS के फायदे क्या है? 

Internet पर Data संचारित करने के लिए HTTPS (Hypertext Transfer Protocol Secure) का उपयोग करने के कई फायदे हैं:

HTTPS उपयोगकर्ता के Web Browser और Website के बीच कनेक्शन को सुरक्षित करने के लिए Encryption का उपयोग करता है, जिससे third parties के लिए प्रसारित किए जा रहे Data को intercept या छेड़छाड़ करना अधिक कठिन हो जाता है। यह संवेदनशील जानकारी, जैसे Login Credential और Credit Card Number को सुरक्षित रखने में मदद करता है।

HTTPS उस Website की पहचान को सत्यापित करने का एक तरीका प्रदान करता है जिससे उपयोगकर्ता संचार कर रहा है। यह SSL/TLS प्रमाणपत्रों के उपयोग के माध्यम से पूरा किया जाता है, जो Trusted Certificate अधिकारियों द्वारा जारी किए जाते हैं। Website की पहचान की पुष्टि करके, HTTPS फ़िशिंग और अन्य प्रकार की धोखाधड़ी को रोकने में मदद करता है।

HTTPS उपयोगकर्ता के Web Browser और Website के बीच कनेक्शन को Encrypt करता है, जिससे third parties के लिए उपयोगकर्ता की ब्राउज़िंग गतिविधि को ट्रैक करना या उसकी निगरानी करना बहुत कठिन हो जाता है। यह उपयोगकर्ता की गोपनीयता और गुमनामी की रक्षा करने में मदद कर सकता है।

Google का search engine algorithm खोज परिणामों में HTTPS साइटों को वरीयता देता है, इसलिए HTTPS साइट्स non-HTTPS साइट्स की तुलना में उच्च रैंक करती हैं।

HTTPS का उपयोग करने वाली Website Browser के address bar में एक padlock icon प्रदर्शित करती हैं, जो दर्शाता है कि Connection Secure है। यह उपयोगकर्ताओं के साथ विश्वास बनाने और उपयोगकर्ता जुड़ाव और रूपांतरण दर बढ़ाने में मदद कर सकता है।

कुछ उद्योगों के लिए विनियामक आवश्यकताओं के अनुपालन और चिकित्सा, वित्तीय या व्यक्तिगत Data जैसी संवेदनशील जानकारी को संभालने के लिए HTTPS आवश्यक है।

HTTPS, HTTP / 2 को सक्षम करके Website के प्रदर्शन में सुधार कर सकता है जो HTTP प्रोटोकॉल का एक नया संस्करण है जो एक ही कनेक्शन पर कई अनुरोधों और प्रतिक्रियाओं को भेजने की अनुमति देकर बेहतर प्रदर्शन प्रदान करता है।

Disadvantages of HTTPS In Hindi | HTTPS के नुकसान क्या है?

जबकि HTTPS (Hypertext Transfer Protocol Secure) Internet पर प्रसारित Data को सुरक्षित करने के लिए कई फायदे प्रदान करता है, इसमें विचार करने के लिए कुछ संभावित कमियां भी हैं:

किसी Website पर HTTPS लागू करना महंगा हो सकता है, क्योंकि इसमें आमतौर पर किसी trusted certificate authority से SSL/TLS Certificate खरीदना शामिल होता है।

किसी Website पर HTTPS सेट अप करना जटिल हो सकता है और इसके लिए तकनीकी विशेषज्ञता की आवश्यकता हो सकती है। यह कुछ Website स्वामियों और संचालकों के लिए कठिन हो सकता है।

प्रसारित होने वाले Data को Encrypt और Decrypt करने के लिए आवश्यक अतिरिक्त प्रोसेसिंग पावर के कारण HTTPS Website के प्रदर्शन को प्रभावित कर सकता है। इससे पृष्ठ लोड समय में विलंब हो सकता है, विशेष रूप से पुराने या कम-संचालित उपकरणों पर।

यदि आपकी Website में non-HTTPS संसाधन जैसे चित्र, वीडियो या स्क्रिप्ट हैं, तो यह मिश्रित सामग्री चेतावनियाँ पैदा कर सकता है।

HTTPS पेजों की Caching मुश्किल हो सकती है और प्रदर्शन और scalability के साथ समस्याएँ पैदा कर सकती हैं।

कुछ पुराने डिवाइस या Browser HTTPS के साथ संगत नहीं हो सकते हैं, जो किसी Website तक पहुँचने का प्रयास करने वाले उपयोगकर्ताओं के लिए समस्याएँ पैदा कर सकते हैं।

HTTPS SQL इंजेक्शन, Cross-site scripting, सत्र अपहरण या अन्य कमजोरियों जैसे सभी प्रकार के हमलों से रक्षा नहीं करता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इन कमियों को अच्छे कार्यान्वयन के साथ कम किया जा सकता है, और सुरक्षा, गोपनीयता और उपयोगकर्ता के विश्वास के संदर्भ में HTTPS के लाभ आम तौर पर कमियों को दूर करते हैं।

निष्कर्ष

HTTPS एक प्रोटोकॉल है जो उपयोगकर्ता के Browser और Website के बीच Connection को Encrypt करके इंटरनेट पर सुरक्षित संचार सुनिश्चित करता है। यह संवेदनशील जानकारी की सुरक्षा करता है, Website की पहचान को प्रमाणित करता है, SEO में सुधार करता है और उपयोगकर्ताओं के साथ विश्वास बनाता है। 

मुझे आशा है कि आपको HTTPS In Hindi, HTTPS क्या है? पर लेख पसंद आया होगा और यह मददगार साबित हुआ होगा। यदि आपको इस विषय के बारे में कोई और संदेह है तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स में बताएं, हमें उनका जवाब देने में खुशी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *