Protocol क्या होता हैं? प्रोटोकॉल कितने प्रकार के होते हैं? Protocol in Hindi

इस लेख में हम जानेंगे कि Network Protocol क्या होता हैं? प्रोटोकॉल कितने प्रकार के होते हैं? और यह कैसे काम करता है? हम विभिन्न प्रकार के प्रोटोकॉल को भी समझेंगे और उनका उद्देश्य क्या है यह हमने कवर किया है। 

आपको हिंदी में प्रोटोकॉल (Protocol in Hindi) के बारे में सबसे अच्छी जानकारी इस blog पर ही मिलेगी, हमने इस पर गहन जानकारी एकत्र की है ताकि आप हमसे अधूरी जानकारी लेकर किए बिना न जाएँ। 

Communication Protocol नियमों या दिशानिर्देशों के समूह हैं जो नियंत्रित करते हैं कि Device या System एक दूसरे के साथ सूचनाओं का लेन-देन कैसे करते हैं। वे यह पूरा यक़ीन करने में मदद करते हैं कि Device या System प्रभावी ढंग से कम्युनिकेशन कर सकते हैं, भले ही उन्हें विशेष रूप से एक साथ काम करने के लिए Design नहीं किया गया हो। Protocol का उपयोग कई अलग-अलग प्रकार के Communication के लिए किया जा सकता है, जैसे Computer Network पर Data Transmit करना, अनुबंध की शर्तों पर बातचीत करना, या Device के बीच संदेशों का लेन-देन करना।

Protocol Meaning In Hindi With Example

Protocol Meaning In Hindi

Protocol आमतौर पर प्रसारित होने वाले Data के प्रारूप को परिभाषित करते हैं, Data को कैसे address किया जाता है, Errors का पता कैसे लगाया जाता है और कैसे ठीक किया जाता है, और Communication कैसे शुरू और समाप्त किया जाता है। वे उपयोग किए जाने वाले Communication Channel के प्रकार, कम्युनिकेशन की आवृत्ति, और शामिल Device या System की भूमिकाओं और जिम्मेदारियों जैसी चीजों को भी निर्दिष्ट कर सकते हैं।

प्रोटोकॉल कई अलग-अलग प्रकार के कम्युनिकेशन का एक अनिवार्य हिस्सा हैं, और वे यह सुनिश्चित करने में सहायता करते हैं कि विभिन्न Device या System प्रभावी ढंग से इंटरऑपरेट कर सकते हैं, भले ही उन्हें विशेष रूप से एक साथ काम करने के लिए Design नहीं किया गया हो। विभिन्न प्रकार के प्रोटोकॉल के कुछ उदाहरणों में network Protocol ,transport protocol, application Protocol, security protocol, File Transfer Protocol, Email protocol और Voice and Video protocol शामिल हैं।

प्रोटोकॉल के उपयोग के कई फायदे हैं, जिनमें Interoperability को सक्षम करना, Reliability सुनिश्चित करना, कम्युनिकेशन को सुविधाजनक बनाना और सुरक्षा सुनिश्चित करना शामिल है। हालाँकि, विचार करने के लिए कुछ संभावित नुकसान भी हैं, जैसे कि जटिलता, अनुकूलता के मुद्दे, प्रदर्शन प्रभाव और अप्रचलन की संभावना। कुल मिलाकर, कम्युनिकेशन प्रोटोकॉल Device या Systemके बीच प्रभावी कम्युनिकेशन को सुविधाजनक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, और वे कई अलग-अलग प्रकार के कम्युनिकेशन में एक महत्वपूर्ण विचार हैं।

Network Protocol क्या होता हैं?

Network Protocol क्या होता हैं?

Network Protocol in Hindi-कम्युनिकेशन के संदर्भ में, प्रोटोकॉल नियमों या दिशानिर्देशों के Set होते हैं जो नियंत्रित करते हैं कि Device या System एक दूसरे के साथ सूचनाओं का लेन-देन कैसे करते हैं। वे यह सुनिश्चित करने में मदद करते हैं कि Device या System प्रभावी ढंग से कम्युनिकेशन कर सकते हैं, भले ही उन्हें विशेष रूप से एक साथ काम करने के लिए Design नहीं किया गया हो। प्रोटोकॉल का उपयोग कई अलग-अलग प्रकार के कम्युनिकेशन के लिए किया जा सकता है, जैसे नेटवर्क पर Data Transmit करना, अनुबंध की शर्तों पर बातचीत करना, या Device के बीच संदेशों का लेन-देन करना।

प्रोटोकॉल आमतौर पर प्रसारित होने वाले Data के प्रारूप को परिभाषित करते हैं, Data को कैसे address किया जाता है, Errors का पता कैसे लगाया जाता है और कैसे ठीक किया जाता है, और कम्युनिकेशन कैसे शुरू और समाप्त किया जाता है। वे उपयोग किए जाने वाले कम्युनिकेशन चैनल के प्रकार, कम्युनिकेशन की आवृत्ति, और शामिल Device या System की भूमिकाओं और जिम्मेदारियों जैसी चीजों को भी निर्दिष्ट कर सकते हैं।

प्रोटोकॉल कई अलग-अलग प्रकार के कम्युनिकेशन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, और वे यह पूरा यक़ीन करने में मदद करते हैं कि विभिन्न Device या System प्रभावी ढंग से इंटरऑपरेट कर सकते हैं, भले ही उन्हें विशेष रूप से एक साथ काम करने के लिए Design नहीं किया गया हो।

Protocol कितने प्रकार का होता हैं? 

Protocol कितने प्रकार का होता हैं? 

कई अलग-अलग प्रकार के प्रोटोकॉल हैं:

  • Transmission Control Protocol (TCP)
  • Internet Protocol (IP)
  • User Datagram Protocol (UDP)
  • Post office Protocol (POP)
  • Simple mail transport Protocol (SMTP)
  • File Transfer Protocol (FTP)
  • Hyper Text Transfer Protocol (HTTP)
  • Hyper Text Transfer Protocol Secure (HTTPS)
  • Telnet Protocol
  • Gopher

Transmission Control Protocol (TCP)

Transmission Control Protocol (TCP) एक connection-oriented Protocol है जो उपकरणों या प्रणालियों के बीच एक विश्वसनीय कनेक्शन स्थापित करने और बनाए रखने के लिए जिम्मेदार है। यह Data को छोटे Packet में विभाजित करके, Packet को Destination पर भेजकर और Packet की प्राप्ति को स्वीकार करके करता है। यदि ट्रांसमिशन के दौरान कोई Packet खो जाता है या दूषित हो जाता है, तो TCP उन्हें सफलतापूर्वक डिलीवर होने तक फिर से भेज देगा।

TCP एक ट्रांसपोर्ट प्रोटोकॉल है, जिसका अर्थ है कि यह Device या System के बीच Data के प्रसारण के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है। यह communication stack की परिवहन परत पर काम करता है, और इंटरनेट या अन्य नेटवर्क पर Data संचारित करने के लिए आमतौर पर Internet Protocol (IP) के साथ संयोजन में इसका उपयोग किया जाता है।

Internet Protocol (IP)

Internet Protocol (IP) एक नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो इंटरनेट जैसे नेटवर्क पर Data Packet को address करने और route करने के लिए ज़िम्मेदार है। यह इंटरनेट की नींव है, और यह प्राथमिक प्रोटोकॉल है जिसका उपयोग इंटरनेट या अन्य नेटवर्क पर Data संचारित करने के लिए किया जाता है।

IP communication stack की नेटवर्क परत पर काम करता है, और यह स्रोत Device या System से डेस्टिनेशन Device या System तक Data Packet पहुंचाने के लिए जिम्मेदार है। यह नेटवर्क पर प्रत्येक Device या System के लिए एक अद्वितीय IP Address निर्दिष्ट करके करता है, और यह इस पते का उपयोग Data Packet को सही Destination पर route करने के लिए करता है।

User Datagram Protocol (UDP)

User Datagram Protocol (UDP) एक Connection Less Protocol है जो Device या System के बीच Data Packet प्रसारित करने के लिए ज़िम्मेदार है। Transmission Control Protocol  (TCP) के विपरीत, जो Device या System के बीच एक विश्वसनीय कनेक्शन स्थापित करता है, UDP कनेक्शन स्थापित नहीं करता है और खोए हुए या दूषित Packet को पुनः प्रेषित नहीं करता है। यह इसे TCP से तेज बनाता है, लेकिन यह कम विश्वसनीय है।

UDP एक परिवहन प्रोटोकॉल है, जिसका अर्थ है कि यह उपकरणों या प्रणालियों के बीच Data के प्रसारण के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है। यह communication stack की परिवहन परत पर काम करता है, और इंटरनेट या अन्य नेटवर्क पर Data संचारित करने के लिए आमतौर पर Internet Protocol (IP) के साथ संयोजन में इसका उपयोग किया जाता है।

Post office Protocol (POP)

Post office Protocol (POP) एक सर्वर से Email संदेश प्राप्त करने के लिए एक प्रोटोकॉल है। यह उपयोगकर्ताओं को अपने Email को एक स्थानीय उपकरण, जैसे कंप्यूटर या स्मार्टफोन पर डाउनलोड करने की अनुमति देता है, और फिर उनके Email को Offline Access और प्रबंधित करता है।

POP एक Application Protocol  है, जिसका अर्थ है कि यह एक विशेष प्रकार के Application (इस मामले में, Email) के लिए विशिष्ट है। यह communication stack के अनुप्रयोग स्तर पर संचालित होता है, और इसका उपयोग अन्य प्रोटोकॉल के साथ संयोजन के रूप में किया जाता है, जैसे कि Simple mail transport Protocol (SMTP), उपकरणों या सिस्टम के बीच Email संदेशों को प्रसारित करने के लिए।

Simple mail transport Protocol (SMTP)

Simple mail transport Protocol (SMTP) Device या System के बीच Email संदेशों के आदान-प्रदान के लिए एक प्रोटोकॉल है। इसका उपयोग Email भेजने और प्राप्त करने के लिए किया जाता है, और यह संदेशों के प्रारूप और उन्हें प्रसारित करने के तरीके को परिभाषित करता है।

SMTP एक Application Protocol है, जिसका अर्थ है कि यह एक विशेष प्रकार के Application (इस मामले में, Email) के लिए विशिष्ट है। यह communication stack के अनुप्रयोग स्तर पर संचालित होता है, और इस Internet  Message Access Protocol (IMAP), Device या System के बीच Email संदेशों को प्रसारित करने के लिए है।

File Transfer Protocol (FTP)

File Transfer protocol (FTP) एक नेटवर्क पर Device या System के बीच File Transfer करने के लिए एक प्रोटोकॉल है। यह आमतौर पर इंटरनेट पर कंप्यूटरों के बीच Files को स्थानांतरित करने या स्थानीय कंप्यूटर से Web Server पर Files को स्थानांतरित करने के लिए उपयोग किया जाता है।

FTP एक Application Protocol  है, जिसका अर्थ है कि यह एक विशेष प्रकार के Application (इस मामले में, File स्थानांतरण) के लिए विशिष्ट है। यह communication stack की अनुप्रयोग परत पर संचालित होता है, और इसका उपयोग अन्य प्रोटोकॉल के साथ संयोजन के रूप में किया जाता है, जैसे Transmission Control Protocol  (TCP), Device या System के बीच Files को प्रसारित करने के लिए।

Hyper Text Transfer Protocol (HTTP)

Hypertext Transfer Protocol (HTTP) Web पर Data संचारित करने के लिए एक प्रोटोकॉल है। इसका उपयोग Web Server और Client  जैसे Web Browser के बीच HTML पेज और अन्य Web-आधारित सामग्री को स्थानांतरित करने के लिए किया जाता है। HTTP World Wide Web की नींव है, और यह Web पर Data संचारित करने के लिए उपयोग किया जाने वाला प्राथमिक प्रोटोकॉल है।

HTTP एक Application Protocol  है, जिसका अर्थ है कि यह एक विशेष प्रकार के Application (इस मामले में, Web) के लिए विशिष्ट है। यह communication stack के अनुप्रयोग स्तर पर संचालित होता है, और इसका उपयोग इंटरनेट या अन्य नेटवर्क पर Data संचारित करने के लिए Transmission Control Protocol  (TCP) जैसे अन्य प्रोटोकॉल के संयोजन में किया जाता है।

Hyper Text Transfer Protocol Secure (HTTPS)

Hypertext Transfer Protocol सिक्योर (HTTPS) HTTP का एक सुरक्षित संस्करण है, जो Web पर Data संचारित करने के लिए उपयोग किया जाने वाला प्राथमिक प्रोटोकॉल है। HTTPS Web Server और Client  के बीच प्रसारित होने वाले Data को Encrypt करके संचार में सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत जोड़ता है, जैसे कि Web Browser। यह Data को Intercept होने और किसी तीसरे पक्ष द्वारा पढ़े जाने से बचाने में मदद करता है।

HTTPS एक Application Protocol  है, जिसका अर्थ है कि यह एक विशेष प्रकार के Application (इस मामले में, Web) के लिए विशिष्ट है। यह communication stack की अनुप्रयोग परत पर संचालित होता है, और इसका उपयोग अन्य प्रोटोकॉल, जैसे कि transport layer security (TLS) या secure sockets layer (SSL) के संयोजन में किया जाता है, ताकि Data को प्रसारित करने के लिए एन्क्रिप्शन और प्रमाणीकरण प्रदान किया जा सके। इंटरनेट या अन्य नेटवर्क।

Telnet Protocol

Telnet Internet जैसे नेटवर्क पर सर्वर या अन्य उपकरणों को दूरस्थ रूप से Access करने और नियंत्रित करने के लिए एक प्रोटोकॉल है। यह उपयोगकर्ताओं को एक दूरस्थ Device या System से कनेक्ट करने और कमांड निष्पादित करने की अनुमति देता है जैसे कि वे Device या System पर भौतिक रूप से मौजूद थे।

Telnet  एक Application Protocol  है, जिसका अर्थ है कि यह एक विशेष प्रकार के Application (इस मामले में, Remote Access और Control) के लिए विशिष्ट है। यह communication stack के अनुप्रयोग स्तर पर संचालित होता है, और इसका उपयोग इंटरनेट या अन्य नेटवर्क पर Data संचारित करने के लिए Transmission Control Protocol  (TCP) जैसे अन्य प्रोटोकॉल के संयोजन में किया जाता है।

Telnet  एक सरल और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला प्रोटोकॉल है, और यह अधिकांश ऑपरेटिंग सिस्टम और उपकरणों द्वारा समर्थित है। यह उपयोगकर्ताओं को कंप्यूटर, स्मार्टफोन और टैबलेट जैसे विभिन्न उपकरणों से सर्वर या अन्य उपकरणों को दूरस्थ रूप से Access और नियंत्रित करने की अनुमति देता है।

Gopher

Gopher Internet जैसे नेटवर्क पर जानकारी तक पहुँचने और पुनः प्राप्त करने के लिए एक प्रोटोकॉल है। इसे 1990 के दशक की शुरुआत में दस्तावेजों, Database और निर्देशिकाओं जैसे विभिन्न स्रोतों से जानकारी तक पहुँचने और पुनः प्राप्त करने के एक सरल और कुशल तरीके के रूप में विकसित किया गया था।

Gopher एक Application Protocol  है, जिसका अर्थ है कि यह एक विशेष प्रकार के Application (इस मामले में, सूचना पुनर्प्राप्ति) के लिए विशिष्ट है। यह communication stack के अनुप्रयोग स्तर पर संचालित होता है, और इसका उपयोग इंटरनेट या अन्य नेटवर्क पर Data संचारित करने के लिए Transmission Control Protocol  (TCP) जैसे अन्य प्रोटोकॉल के संयोजन में किया जाता है।

Gopher Internet पर जानकारी तक पहुँचने और पुनः प्राप्त करने के लिए विकसित किए गए पहले प्रोटोकॉल में से एक था, और 1990 के दशक में इसका व्यापक रूप से उपयोग किया गया था। हालाँकि, इसके बाद से इसे अन्य प्रोटोकॉल जैसे World Wide Web(WWW) और FTP द्वारा बदल दिया गया है, जो अधिक उन्नत सुविधाएँ और कार्यक्षमता प्रदान करते हैं।

Protocol कैसे काम करता हैं?

Protocol कैसे काम करता हैं?
  1. Sender और Receiver विशिष्ट प्रोटोकॉल पर सहमत होते हैं जिसका उपयोग वे कम्युनिकेशन के लिए करेंगे। इसमें सही प्रोटोकॉल का उपयोग करने के लिए Device या System को Configure करना और किसी आवश्यक पैरामीटर या Setिंग्स को निर्दिष्ट करना शामिल हो सकता है।
  1. Sender उस Data को एनकोड करता है जिसे वह प्रोटोकॉल के नियमों के अनुसार कम्युनिकेशनित करना चाहता है। इसमें Data को एक विशिष्ट तरीके से स्वरूपित करना, हेडर या अन्य Meta Data जोड़ना, और/या कोई आवश्यक Encryption या Compression लागू करना शामिल हो सकता है।
  1. Sender प्रोटोकॉल द्वारा निर्दिष्ट कम्युनिकेशन चैनल का उपयोग करके एन्कोडेड Data को Receiver तक पहुंचाता है। इसमें किसी नेटवर्क पर, केबल के माध्यम से या कम्युनिकेशन के किसी अन्य माध्यम से Data भेजना शामिल हो सकता है।
  1. Receiver प्रेषित Data प्राप्त करता है और इसे प्रोटोकॉल के नियमों के अनुसार Decode करता है। इसमें Data को Parse करना, किसी भी प्रासंगिक Meta Data को निकालना, और/या किसी आवश्यक decryption या Decompression को लागू करना शामिल हो सकता है।
  1. रिसीवर कम्युनिकेशन के विशिष्ट उद्देश्य के अनुसार Decode किए गए Data को प्रोसेस करता है। इसमें Data को संग्रहीत करना, उसे उपयोगकर्ता को प्रदर्शित करना, या Data की सामग्री के आधार पर कुछ अन्य कार्रवाई करना शामिल हो सकता है।
  1. यदि कम्युनिकेशन के दौरान कोई समस्या उत्पन्न होती है, तो प्रोटोकॉल निर्दिष्ट कर सकता है कि Device या System को उन्हें कैसे संभालना चाहिए। इसमें खोए हुए या दूषित Data को पुनः प्रेषित करना, parameters के एक नए Set पर बातचीत करना या कम्युनिकेशन को समाप्त करना शामिल हो सकता है।
  1. जब कम्युनिकेशन पूरा हो जाता है, तो प्रोटोकॉल निर्दिष्ट कर सकता है कि कम्युनिकेशन के दौरान उपयोग किए गए किसी भी संसाधन या Connection को Device या Systemको कैसे साफ करना चाहिए।

प्रोटोकॉल का क्या उपयोग है? | प्रोटोकॉल के फायदे

Device या System के बीच कम्युनिकेशन को सुविधाजनक बनाने के लिए प्रोटोकॉल का उपयोग कई अलग-अलग संदर्भों में किया जाता है। प्रोटोकॉल के कुछ मुख्य उपयोगों में शामिल हैं:

Interoperability को सक्षम करना: प्रोटोकॉल यह सुनिश्चित करने में मदद करते हैं कि विभिन्न Device या System एक-दूसरे के साथ कम्युनिकेशन कर सकते हैं, भले ही उन्हें विशेष रूप से एक साथ काम करने के लिए Design नहीं किया गया हो। यह उन स्थितियों में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जहां विभिन्न Device या System को सूचनाओं का लेन-देन करने की आवश्यकता होती है, लेकिन उनका सीधा संबंध नहीं हो सकता है या अन्य तरीकों से एक दूसरे के साथ संगत नहीं हो सकता है।

Reliability सुनिश्चित करना: प्रोटोकॉल यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं कि कम्युनिकेशन विश्वसनीय है, यहां तक कि Errors या अन्य मुद्दों के सामने आने पर भी। उदाहरण के लिए, प्रोटोकॉल निर्दिष्ट कर सकते हैं कि खोए हुए या दूषित Data को कैसे पुनः प्रेषित किया जाना चाहिए, या प्रारंभिक कम्युनिकेशन सफल नहीं होने पर Device या System को पैरामीटर के नए Set पर कैसे बातचीत करनी चाहिए।

Communication Facility: प्रोटोकॉल Device या System के लिए नियमों और सम्मेलनों के एक सामान्य Set को परिभाषित करके एक दूसरे के साथ संवाद करना आसान बना सकते हैं जिनका वे उपयोग कर सकते हैं। यह Device या System के बीच कम्युनिकेशन स्थापित करने और बनाए रखने में शामिल प्रयास और जटिलता को कम कर सकता है।

Ensure safety: प्रोटोकॉल का उपयोग चुपके प्रदान करके Device या Systemके बीच कम्युनिकेशन को सुरक्षित करने के लिए किया जा सकता है (Data को Encrypt करके ताकि इसे केवल इच्छित Receiver द्वारा पढ़ा जा सके), एकता (यह सुनिश्चित करके कि Data के साथ छेड़छाड़ नहीं की गई है), और प्रमाणीकरण (एक दूसरे के साथ कम्युनिकेशन करने वाले Device की पहचान की पुष्टि करके)।

कुल मिलाकर, कई अलग-अलग संदर्भों में Device या Systemके बीच प्रभावी कम्युनिकेशन को सुविधाजनक बनाने के लिए प्रोटोकॉल का उपयोग आवश्यक है।

प्रोटोकॉल के नुकसान

प्रोटोकॉल का उपयोग करने के कुछ संभावित नुकसान हैं जो विचार करने योग्य हैं:

  • Complexity: प्रोटोकॉल जटिल हो सकते हैं, खासकर यदि वे सुविधाओं की एक विस्तृत Sequence का समर्थन करने या Device या Systemकी एक Detailed. Sequence को समायोजित करने के लिए Design किए गए हों। यह जटिलता प्रोटोकॉल को लागू करना और बनाए रखना मुश्किल बना सकती है, खासकर अगर कई अलग-अलग Device या System हैं जिन्हें इसका उपयोग करने की आवश्यकता है।
  • Inconsistency: अलग-अलग प्रोटोकॉल एक-दूसरे के साथ संगत नहीं हो सकते हैं, जो उन Device या Systemके लिए मुश्किल बना सकते हैं जो एक-दूसरे के साथ संवाद करने के लिए अलग-अलग प्रोटोकॉल का उपयोग करते हैं। यह विशेष रूप से समस्याग्रस्त हो सकता है यदि प्रोटोकॉल का उपयोग विभिन्न प्रकार के कम्युनिकेशन के लिए किया जाता है, जैसे Data Transfer, Voice and Video.
  • Display: प्रोटोकॉल का उपयोग करने वाले Device या Systemके प्रदर्शन पर प्रभाव पड़ सकता है। उदाहरण के लिए, Reliability पूरा यक़ीन करने के लिए Design किए गए प्रोटोकॉल कम्युनिकेशन प्रक्रिया में ओवरहेड जोड़ सकते हैं, जो कम्युनिकेशन की समग्र गति और दक्षता को कम कर सकते हैं।
  • Compatibility: प्रोटोकॉल अप्रचलित हो सकते हैं या नई तकनीकों या Device के साथ संगत नहीं हो सकते हैं। इससे नई स्थितियों में प्रोटोकॉल का उपयोग करना मुश्किल हो सकता है, या अनुकूलता बनाए रखने के लिए प्रोटोकॉल में अपडेट या परिवर्तन की आवश्यकता हो सकती है।

कुल मिलाकर, जबकि प्रोटोकॉल Device या Systemके बीच कम्युनिकेशन को सुविधाजनक बनाने के लिए उपयोगी हो सकते हैं, उनमें जटिलता और अन्य मुद्दों को पेश करने की भी क्षमता होती है जिन्हें सावधानीपूर्वक प्रबंधित करने की आवश्यकता हो सकती है।

निष्कर्ष

अंत में, प्रोटोकॉल नियमों या दिशानिर्देशों के समूह हैं जो यह नियंत्रित करते हैं कि Device या System एक दूसरे के साथ कैसे कम्युनिकेशन करते हैं। वे यह सुनिश्चित करने में मदद करते हैं कि अलग-अलग Device या System प्रभावी ढंग से इंटरऑपरेट कर सकते हैं, भले ही उन्हें विशेष रूप से एक साथ काम करने के लिए Design नहीं किया गया हो। प्रोटोकॉल का उपयोग कई अलग-अलग प्रकार के संचार के लिए किया जा सकता है, जैसे networking, transport, application-specific, security, file transfer, email,और voice और video। 

प्रत्येक प्रकार का प्रोटोकॉल एक विशिष्ट उद्देश्य प्रदान करता है और विभिन्न प्रकार के संचार की जरूरतों को पूरा करने के लिए Design किया गया है। प्रोटोकॉल कई अलग-अलग प्रकार के संचार का एक अनिवार्य हिस्सा हैं, और वे यह सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं कि विभिन्न Device या System प्रभावी ढंग से और सुरक्षित रूप से संचार कर सकते हैं।

आशा है आपको Protocol in Hindi और Protocol कितने प्रकार का होता हैं? के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी अगर हमसे कुछ छूट गया हो तो कृपया कमेंट बॉक्स में उसका उल्लेख करें।

और बेझिझक अपना सवाल हमसे पूछें, हमें उनका जवाब देने में खुशी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *