POP (Post Office Protocol) क्या होता है? | Post Office Protocol In Hindi

इस ब्लॉग में, हम POP प्रोटोकॉल में से एक पर विस्तृत जानकारी देखेंगे। हमने इस विषय पर पूरी जानकारी समेटने की कोशिश की है जिसमें POP क्या है, POP की फुल फॉर्म क्या होती है?, POP का इतिहास क्या है?, POP Protocol फायदे और नुक्सान आदि शामिल है। पूरी जानकारी के लिए लेख पढ़ें।

POP क्या है?

POP (Post Office Protocol) एक साधारण प्रोटोकॉल है जिसका उपयोग Mail Server से Email Receive करने के लिए किया जाता है।

विशेष रूप से, POP3 (Post Office Protocol Version 3) प्रोटोकॉल का सबसे वर्तमान Version है, और इसका उपयोग Server से Client Computer या Mobile Device पर Email Message को Download करने के लिए किया जाता है।

POP एक Application Layer Protocol है और Port 110 (outgoing) और 995 (incoming) पर operate होता है।

यह IMAP (Internet Message Access Protocol) से अलग है, जो Server पर Message छोड़ता है और एक ही Mailbox तक कई उपकरणों को पहुंचने की अनुमति देता है। POP को आमतौर पर IMAP की तुलना में एक सरल और कम सुविधा संपन्न प्रोटोकॉल माना जाता है।

POP की फुल फॉर्म क्या होती है? | POP Full Form In Hindi

POP का पूर्ण रूप “Post Office Protocol” है।

POP का इतिहास क्या है?

Post Office Protocol (POP) का इतिहास Internet के शुरुआती दिनों का है, जब Email का पहली बार व्यापक रूप से उपयोग किया जा रहा था। प्रोटोकॉल का पहला Version, POP1, 1984 में University of California, Berkeley में Mark Horton द्वारा Remote Mail Server से Email Receive करने का एक standardized तरीका बनाने के प्रयास के रूप में विकसित किया गया था।

POP1 के बाद 1985 में POP2 और फिर 1988 में POP3 आया। POP3 प्रोटोकॉल का सबसे व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला Version है और आज भी उपयोग में है। अपने पूर्ववर्तियों की तुलना में POP3 का मुख्य लाभ यह है कि यह Email Client को Message को Download करने के बाद Server से हटाने की अनुमति देता है, जो Server storage space को संरक्षित करने में मदद करता है।

POP Protocol का उपयोग मुख्य रूप से Mail Server से Email Download करने के लिए किया जाता था। इस प्रोटोकॉल का मुख्य नुकसान यह है कि यह एक ही Mailbox को multiple devices से Access करने की अनुमति नहीं देता है। इसमें folder, tag और अन्य metadata को उपकरणों में Sync करने का एक तरीका भी नहीं है। इस पर काबू पाने के लिए IMAP को POP के विकल्प के रूप में पेश किया गया था।

POP को कैसे इस्तेमाल किया जाता है? | How To Use POP

How To Use POP

Mail Server से Email Receive करने के लिए POP (Post Office Protocol) का उपयोग करने में कुछ बुनियादी चरण शामिल हैं:

POP Protocol का उपयोग करने के लिए अपने Email Client (जैसे Microsoft Outlook, Apple Mail, या Mozilla Thunderbird) को Configure करें। इसमें आमतौर पर Server Address (जैसे, pop.example.com), your username और your password निर्दिष्ट करना शामिल होता है।

अपने Email Client का उपयोग करके Mail Server से Connect करें। इसमें आमतौर पर “New Mail की जांच करें” या इसी तरह के लेबल वाले बटन या Menu Item पर क्लिक करना शामिल होगा।

Server पर मौजूद किसी भी नए Message को पुनः प्राप्त करें। आपका Email Client Message को Download करेगा और उन्हें आपके Computer पर संग्रहीत करेगा। कुछ Email Client Download होने के बाद Server से Message को स्वचालित रूप से हटा देंगे, जबकि अन्य Server पर Message छोड़ सकते हैं।

इच्छानुसार Message को पढ़ें, उत्तर दें, अग्रेषित करें या हटाएं।

Note: कुछ Email प्रदाता अपने Server पर केवल POP3 को सक्षम करते हैं, अन्य POP3 और IMAP दोनों को सक्षम करते हैं। POP3 Email Download करेगा और उन्हें Server से हटा देगा और साथ ही IMAP Mail को Server पर रखेगा जो एक ही Mailbox को कई उपकरणों से Access करने की अनुमति देता है। एकाधिक डिवाइस Access, बेहतर Sync और folder management के लिए IMAP का उपयोग करने की अनुशंसा की जाती है।

POP के प्रकार | Types Of POP In Hindi

POP (Post Office Protocol) मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं:

POP3 (Post Office Protocol Version 3): यह प्रोटोकॉल का सबसे Latest Version है और इसका उपयोग Server से Client Computer या Mobile Device पर Email Message को Download करने के लिए किया जाता है। यह Email Retrieve के लिए व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है और सबसे आम Email Client Software (आउटलुक, थंडरबर्ड, आदि) Server से Email पुनर्प्राप्त करने के लिए POP3 का उपयोग करता है। POP3 का मुख्य लाभ यह है कि यह Email Client को Message को Download करने के बाद Server से हटाने की अनुमति देता है, जो Server Storage Space को संरक्षित करने में मदद करता है।

POP2 (Post Office Protocol Version 2): यह 1985 में जारी किया गया था, यह POP3 की तुलना में कम आम है, और यह आज व्यापक उपयोग में नहीं है। POP2, POP3 के समान है, लेकिन इसमें कुछ उन्नत सुविधाएँ शामिल नहीं हैं जो प्रोटोकॉल के New Version में पाई जाती हैं।

यह नोट करना महत्वपूर्ण है कि ये Post Office Protocol के दो Version हैं जिनका उपयोग Email Retrieve के लिए किया जाता है। IMAP (Internet Mail Access Protocol) और SMTP (Simple Mail Transfer Protocol) जैसे Email तक पहुँचने के लिए अन्य प्रोटोकॉल भी हैं, जिनकी अपनी विशिष्ट कार्यक्षमता और उद्देश्य है।

POP Protocol के फायदे | Advantage Of POP In Hindi

Email पुनर्प्राप्त करने के लिए Post Office Protocol (POP) का उपयोग करने के कई फायदे हैं:

  •  POP एक अपेक्षाकृत simple protocol है, जो इसे उपयोग करना और कार्यान्वित करना आसान बनाता है। इसके लिए Server पर किसी विशेष Software या Configuration की आवश्यकता नहीं होती है, और अधिकांश Email Client को इसे minimal effort के साथ उपयोग करने के लिए Configure किया जा सकता है।
  •  POP आपको अपने Computer या Mobile Device पर Email Message को Download करने और उन्हें offline पढ़ने की अनुमति देता है। यह उपयोगी हो सकता है यदि आपको Internet से Connect न होने पर अपना Email पढ़ने की आवश्यकता हो।
  • POP3 Email Client को Server से Message को Download करने के बाद हटाने की अनुमति देता है। यह Server Storage Sapce को संरक्षित करने में मदद करता है, जो विशेष रूप से बड़ी संख्या में Message या बड़े attachments वाले Email Accounts के लिए महत्वपूर्ण है।
  • कई Email प्रदाता spam filtering सेवाओं की पेशकश करते हैं जो POP3 के माध्यम से Email तक पहुँचने पर अधिक कुशल होती हैं।
  • चूंकि POP3 प्रोटोकॉल Client को Email Download करता है, इसे आपके Email के लिए Backup System के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है और hard drive, cloud इत्यादि जैसे विभिन्न तरीकों से संग्रहीत किया जा सकता है।
  • POP3 को Email Server पर username नाम और password के साथ log in करने के लिए एक Email Client की आवश्यकता होती है, जो आपके Email के लिए सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत प्रदान करता है।

POP Protocol के नुकसान | Disadvantage Of POP In Hindi

जहां Post Office Protocol (POP) के कई फायदे हैं, वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं:

  • POP एक relatively basic protocol है और यह कई advanced features प्रदान नहीं करता है जो IMAP जैसे अधिक आधुनिक प्रोटोकॉल के साथ उपलब्ध हैं। उदाहरण के लिए, यह एकाधिक उपकरणों को एक ही Mailbox या Sync Folder और उपकरणों पर Tag तक पहुंचने की अनुमति नहीं देता है।
  • POP कई उपकरणों के बीच synchronization प्रदान नहीं करता है, यह केवल एक उपकरण पर Email Download करने की अनुमति देता है और अन्य उपकरणों द्वारा किए गए परिवर्तनों को समन्वयित नहीं करता है। यह एक समस्या हो सकती है यदि आपको अपने Email को विभिन्न उपकरणों से Access करने की आवश्यकता है या अपने Email Client और Web Mail को Sync में रखने की आवश्यकता है।
  • Client पर Download होने के बाद POP3 Email Server से हटा दिए जाते हैं। यदि Client कुछ Email Download करने में असमर्थ है और उन्हें Server से हटा दिया जाता है, तो इससे समस्या हो सकती है।
  • POP3 IMAP का उपयोग करने वाले Email Client द्वारा प्रदान किए गए folder management, tagging और अन्य advanced features का समर्थन नहीं करता है।
  • चूंकि POP3 Email को Server पर संग्रहीत नहीं करता है, आप वेब Mail के माध्यम से अपने Email तक नहीं पहुंच सकते हैं।
  • यदि उपकरण खो जाता है या चोरी हो जाता है, या यदि Client का Computer malware द्वारा समझौता किया जाता है, तो Client Computer या डिवाइस पर Email संग्रहीत करना एक सुरक्षा जोखिम हो सकता है।

निष्कर्ष

Post Office Protocol (POP) एक अक्सर प्रयुक्त प्रोटोकॉल है जिससे ईमेल सर्वर से प्राप्त किया जा सकता है। यह स्थापित करने और उपयोग करने में सरल होता है, इसलिए कई लोगों को पसंद होता है। POP Offline Access को सक्षम करता है, और Email Client के द्वारा Download किए गए संदेशों को Server से हटाने के कारण Server Storage Space को बचा सकता है। इससे अलग यह भी सुरक्षा के लिए उपयोग किया जा सकता है कि Email Server को Log In करने के लिए Username और Password की आवश्यकता होती है।

आशा है कि आपको लेख पसंद आया होगा और आपको वह जानकारी मिल गई होगी जिसकी आपको तलाश थी। आशा है कि हमने आपके संदेहों को दूर करने के लिए हमारे लेख को पर्याप्त सूचनात्मक बना दिया है।

यदि आपके पास इस विषय पर कोई और प्रश्न हैं, तो बेझिझक उनका उत्तर कमेंट बॉक्स में दें, हमें आपके लिए उनका उत्तर देने में खुशी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *