Telnet क्या है? टेलनेट के लाभ | Telnet In Hindi

नमस्कार दोस्तों आज इस ब्लॉग में हम टेलनेट प्रोटोकॉल की पूरी जानकारी देखेंगे, टेलनेट और Telnet कैसे काम करता है? Telnet के कुछ Command की जानकारी भी देखेंगे तो चलिए शुरू करते हैं

Telnet एक Network Protocol है जिसका उपयोग Remote Device, आमतौर पर एक Computer या Server से Connection establish करने के लिए किया जाता है, और User को इसके साथ Interact करने की अनुमति देता है, जैसे कि वे Device पर भौतिक रूप से मौजूद थे।

Telnet Full Form | Telnet की फुल फॉर्म क्या है

Telnet का पूर्ण रूप “Teletype Network” है। इसका नाम Teletype के नाम पर रखा गया था, जो एक electromechanical typewriter था जिसे आमतौर पर 1960 और 1970 के दशक में Computer के टर्मिनल के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। “Telnet” नाम इस तथ्य को संदर्भित करता है कि प्रोटोकॉल User को दूरस्थ रूप से Connect करने और Computer से Interact करने की अनुमति देता है जैसे कि वे teletype terminal का उपयोग कर रहे हों।

What is Telnet In Hindi | Telnet क्या है?

Telnet एक Network Protocol है जो User को नेटवर्क पर किसी अन्य Computer या Device से दूरस्थ रूप से Connect करने और Interact करने की अनुमति देता है। यह User को Remote Device तक पहुंचने और प्रबंधित करने के लिए text-based interface प्रदान करने के लिए Virtual-Terminal Connection का उपयोग करता है। Telnet का उपयोग विभिन्न प्रकार के उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जैसे remote login, file transfer और network management। User Remote Device के साथ इसे Command भेजकर और प्रतिक्रिया वापस प्राप्त करके Interact करता है। Telnet को 1970 के दशक में विकसित किया गया था और अतीत में Server, Router, Switch और अन्य नेटवर्क उपकरणों के Remote access और प्रबंधन के लिए इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता था। हालाँकि, इसे एक असुरक्षित प्रोटोकॉल माना जाता है क्योंकि यह सादे पाठ में Data भेजता है, जो इसे सूँघने और man-in-the-middle attacks. के लिए असुरक्षित बनाता है। इसलिए, इसे बड़े पैमाने पर अधिक सुरक्षित विकल्पों जैसे  SSH (Secure Shell) द्वारा प्रतिस्थापित किया गया है जो नेटवर्क पर भेजे गए सभी Data को Encrypt करता है। इसके अतिरिक्त, सुरक्षा की कमी के कारण Telnet भी कई Firewall और Router द्वारा समर्थित नहीं है।

History Of Telnet | Telnet का इतिहास क्या है? 

Telnet को 1970 के दशक की शुरुआत में ARPANET के हिस्से के रूप में विकसित किया गया था, जो आधुनिक इंटरनेट का अग्रदूत था। प्रोटोकॉल Massachusetts Institute of Technology (MIT) के शोधकर्ताओं की एक टीम द्वारा Vint Cerf और Bob Kahn के नेतृत्व में विकसित किया गया था। Telnet का पहला संस्करण 1972 में जारी किया गया था, और यह जल्दी ही remote login और Server और अन्य नेटवर्क उपकरणों तक पहुंच के लिए एक लोकप्रिय उपकरण बन गया।

1980 और 1990 के दशक में, Server, Router, Switch और अन्य नेटवर्क उपकरणों के Remote access और प्रबंधन के लिए universities, research institutions और businesses द्वारा Telnet को व्यापक रूप से अपनाया गया था। यह bulletin board systems (BBS) और ऑनलाइन समुदायों के अन्य शुरुआती रूपों से जुड़ने का एक लोकप्रिय साधन भी बन गया।

हालाँकि, जैसे-जैसे इंटरनेट बढ़ता गया और अधिक व्यापक रूप से उपयोग किया जाने लगा, Telnet की सुरक्षा कमजोरियाँ और अधिक स्पष्ट होती गईं। प्रोटोकॉल सादे पाठ में Data भेजता है, जो इसे सूँघने और man-in-the-middle attacks के लिए असुरक्षित बनाता है। इससे SSH (Secure Shell) जैसे अधिक सुरक्षित विकल्पों का विकास हुआ जो नेटवर्क पर भेजे गए सभी Data को Encrypt करता है।

आज, Telnet अभी भी उपयोग में है, लेकिन यह ज्यादातर विरासत प्रणालियों में प्रयोग किया जाता है। इसे एक असुरक्षित प्रोटोकॉल माना जाता है और यह कई Firewall और Router द्वारा समर्थित नहीं है। SSH अब नेटवर्क उपकरणों और Server के Remote access और प्रबंधन के लिए मानक है।

Working Of Telnet | Telnet कैसे काम करता है?

Telnet User के Device और Server या Router जैसे Remote Device के बीच Virtual Terminal Connection establish करके काम करता है। User का उपकरण, जिसे अक्सर Telnet Client कहा जाता है, Remote Device को आदेश भेजता है, जिसे Telnet Server के रूप में जाना जाता है। Server तब Command को प्रोसेस करता है और Client को प्रतिक्रिया भेजता है।

जब कोई User Telnet Connection शुरू करता है, तो Client Telnet Port  (TCP Port  23) का उपयोग कर Remote Device पर Telnet Server से Connection establish करता है। Client और Server तब विकल्पों के एक Set पर बातचीत करते हैं, जैसे टर्मिनल प्रकार और window size, यह सुनिश्चित करने के लिए कि Connection सही तरीके से Configure किया गया है। एक बार Connection establish हो जाने के बाद, User Command भेजकर और प्रतिक्रियाएँ प्राप्त करके Remote Device के साथ Interact कर सकता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि Telnet एक असुरक्षित प्रोटोकॉल है क्योंकि यह नेटवर्क पर सादे पाठ में Data भेजता है, जो इसे eavesdropping और man-in-the-middle attacks के लिए असुरक्षित बनाता है। यही कारण है कि sensitive information या किसी भी उत्पादन वातावरण में Telnet का उपयोग करने की अनुशंसा नहीं की जाती है, इसके बजाय SSH सुरक्षित Remote access के लिए अनुशंसित प्रोटोकॉल है।

Telnet Command | Telnet के कुछ Command

Telnet Command एक command-line उपयोगिता है जिसका उपयोग Remote Device से Telnet Connection establish करने के लिए किया जाता है। यह आमतौर पर Server, Router, Switch और अन्य नेटवर्क उपकरणों को दूरस्थ रूप से access और प्रबंधित करने के लिए उपयोग किया जाता है।

Telnet Command का मूल syntax इस प्रकार है:

telnet [hostname or IP address] [port]

hostname or IP address’ उस Remote Device का नाम या IP address कहां है जिससे आप Connect करना चाहते हैं और ‘port’ वह Port नंबर है जिस पर Telnet Server सुन रहा है। Telnet के लिए Default Port  नंबर 23 है, इसलिए यदि आप Port  नंबर निर्दिष्ट नहीं करते हैं, तो Command इस Default का उपयोग करेगा।

उदाहरण के लिए, Telnet Command का उपयोग करके आईपी एड्रेस 192.168.1.100 के साथ एक Remote Server से Connect करने के लिए, आप निम्न Command का प्रयोग करेंगे:

telnet 192.168.1.100

एक बार जब आप Remote Device से Connect हो जाते हैं, तो आप Command दर्ज कर सकते हैं और प्रतिक्रियाएं प्राप्त कर सकते हैं जैसे कि आप सीधे Device पर काम कर रहे हों।

कृपया ध्यान रखें कि Telnet एक असुरक्षित प्रोटोकॉल है और Telnet पर Password या अन्य संवेदनशील Data भेजने की अनुशंसा नहीं की जाती है।

टेलनेट के लाभ | Advantages of Telnet In Hindi 

  • Telnet Userओं को नेटवर्क पर किसी अन्य Computer या Device के साथ दूरस्थ रूप से एक्सेस और Interact करने की अनुमति देता है, जो Server, Router, Switch और अन्य Network device के प्रबंधन के लिए बहुत उपयोगी हो सकता है।
  • Telnet एक सरल और उपयोग में आसान प्रोटोकॉल है जिसके लिए User के Device पर किसी विशेष Software या configuration की आवश्यकता नहीं होती है।
  • Telnet एक platform-independent protocol है, जिसका अर्थ है कि इसका उपयोग operating system या hardware platform की परवाह किए बिना किसी दूरस्थ Device से Connect करने के लिए किया जा सकता है।
  • Telnet एक text-based प्रोटोकॉल है, जिसका अर्थ है कि इसे बहुत कम Bandwidth और Overhead की आवश्यकता होती है, जो इसे धीमे या अविश्वसनीय Connection पर उपयोग के लिए उपयुक्त बनाता है।
  • Telnet का उपयोग नेटवर्क Connectivity को debugging करने के लिए किया जा सकता है, उदाहरण के लिए, यह जांचने के लिए कि Remote Device पर कोई विशेष Port खुला या बंद है या नहीं।

यह नोट करना महत्वपूर्ण है कि Telnet को अब एक असुरक्षित प्रोटोकॉल माना जाता है और इसे किसी भी उत्पादन वातावरण में उपयोग करने की अनुशंसा नहीं की जाती है। यह नेटवर्क पर सादे पाठ में Data भेजता है, जो इसे eavesdropping और man-in-the-middle attacks के प्रति संवेदनशील बनाता है। इसलिए, इसे बड़े पैमाने पर अधिक सुरक्षित विकल्पों जैसे SSH द्वारा प्रतिस्थापित किया गया है।

Telnet के नुकसान | Disadvantages of Telnet In Hindi

  • Telnet एक असुरक्षित प्रोटोकॉल है, क्योंकि यह नेटवर्क पर सादे पाठ में Data भेजता है, जो इसे eavesdropping और man-in-the-middle attacks के लिए असुरक्षित बनाता है। इसका मतलब है कि Password और अन्य संवेदनशील जानकारी को दुर्भावनापूर्ण अभिनेताओं द्वारा इंटरसेप्ट किया जा सकता है।
  • Telnet Network पर भेजे गए किसी भी Data को Encrypt नहीं करता है, जिसका अर्थ है कि कोई भी व्यक्ति जो Data को इंटरसेप्ट करता है, उसे आसानी से पढ़ सकता है।
  • Telnet कोई built-in authentication mechanism प्रदान नहीं करता है, जिसका अर्थ है कि कोई भी Telnet Server से Connect हो सकता है और Remote Device तक पहुंच सकता है।
  • Telnet एक सरल और बुनियादी प्रोटोकॉल है जो केवल बुनियादी कार्यक्षमता प्रदान करता है, जैसे remote login और Command निष्पादन। यह file transfer या graphical interfaces जैसी अधिक उन्नत सुविधाओं का समर्थन नहीं करता है।
  • Telnet किसी भी data compression का समर्थन नहीं करता है, जिसका अर्थ है कि धीमे या unreliable connections पर उपयोग किए जाने पर यह बहुत धीमा हो सकता है।
  • सुरक्षा की कमी के कारण Telnet कई Firewall और Router द्वारा समर्थित नहीं है, जिसका अर्थ है कि यह Firewall के पीछे होने पर Remote Device से Connect करने में सक्षम नहीं हो सकता है।
  • सुरक्षा की कमी के कारण Telnet को किसी भी उत्पादन वातावरण में उपयोग करने की अनुशंसा नहीं की जाती है।

इन सभी कारणों से Telnet को SSH जैसे अधिक सुरक्षित विकल्पों द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है जो नेटवर्क पर भेजे गए सभी Data को Encrypt करता है।

निष्कर्ष

अंत में, Telnet एक Network Protocol  है जो Userओं को नेटवर्क पर किसी अन्य Computer या Device को दूरस्थ रूप से एक्सेस करने और Interact करने की अनुमति देता है। यह 1970 के दशक में विकसित किया गया था और अतीत में Server, Router, Switch और अन्य Network Devices के Remote access और प्रबंधन के लिए व्यापक रूप से उपयोग किया जाता था। हालाँकि, इसे एक Unsecure Protocol माना जाता है क्योंकि यह सादे पाठ में Data भेजता है, जो इसे सूँघने और man-in-the-middle attacks के लिए असुरक्षित बनाता है।

Telnet के मुख्य लाभों में इसके उपयोग में आसानी और Remote access क्षमताएं शामिल हैं, लेकिन इसके महत्वपूर्ण नुकसान भी हैं, जैसे सुरक्षा, Encryption और प्रमाणीकरण की कमी, सीमित कार्यक्षमता और कई Firewall और Router द्वारा समर्थित नहीं होना। इसके अतिरिक्त, इसकी सुरक्षा की कमी के कारण इसे किसी भी उत्पादन वातावरण में उपयोग करने की अनुशंसा नहीं की जाती है।

मुझे आशा है कि आपको यह लेख जानकारीपूर्ण लगा होगा, अगर हमसे लेख Telnet In Hindi, Telnet क्या है? में कोई विवरण छूट गया है तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स में बताएं और अगर आपको इस पर कोई संदेह है तो हमें बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *